दुनिया में कई ऐसे देश, जिनके पास नहीं है अपनी सेना, इस तरह से करते हैं अपनी सीमाओं की रक्षा 

नई दिल्ली: किसी भी देश की सुरक्षा उस देश की सेना करती है. हर देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी बलों पर होती है। जहां पुलिस देश की आंतरिक सुरक्षा का ख्याल रखती है, वहीं देश की सेना बाहरी सुरक्षा का ख्याल रखती है। आज हम आपको कुछ ऐसे देशों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके पास अपनी कोई सेना नहीं है।

आप भी सुनकर चौंक जाएंगे कि कैसे किसी देश के पास कोई सेना नहीं है। आप सोच रहे होंगे कि उन देशों की सीमाओं की रक्षा कौन करता है जिनके पास अपनी कोई सेना नहीं है। अगर आपको हैरानी होगी तो हम आपको बता दें कि इन देशों की सुरक्षा की जिम्मेदारी उनकी सेना नहीं बल्कि दूसरे देशों की पुलिस और सेना करती है।

मोनाको एक ऐसा देश है। जहां 17वीं सदी से किसी भी तरह की कोई सेना नहीं है। हालांकि यहां सेना की छोटी इकाइयां हैं। सबसे खास बात यह है कि फ्रांस की सेना इस देश को सुरक्षा मुहैया कराती है। आइसलैंड यूरोप के दूसरे सबसे बड़े द्वीप में आता है। आइसलैंड खूबसूरती के मामले में काफी अच्छा देश है। 1869 से यहां कोई सेना नहीं है। यह देश नाटो का सदस्य है और इसकी सुरक्षा के लिए अमेरिका जिम्मेदार है।

मॉरीशस देश में 1968 के बाद से किसी भी प्रकार की कोई सेना नहीं है। हालांकि, यहां 10,000 पुलिस कर्मी हैं, जो आंतरिक और बाहरी सुरक्षा दोनों की जिम्मेदारी संभालते हैं। वेटिकन सिटी दुनिया का सबसे छोटा देश है। उसके पास किसी प्रकार की सेना नहीं है। कुछ साल पहले तक यहां एक नेक पहरेदार हुआ करता था। लेकिन वर्ष 1970 में इस संस्था को ध्वस्त कर दिया गया। इस देश की सुरक्षा इतालवी सेना द्वारा की जाती है।