विरोधी दलों पर भड़की मायावती, कहा- इन लोगों की वजह से लोगों को॰॰॰

अपने सियासी फायदे के लिए हाथरस जैसे मामलों में ड्रामा करते हैं विरोधी दल

लखनऊ॥ बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने भाजपा, कांग्रेस सहित अन्य दलों की सरकारों में दलित समाज के लोगों के उत्पीड़न की घटनाओं में तेजी आने का आरोप लगाया है। पार्टी संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर शुक्रवार को विरोधी दलों पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि कांग्रेस, भाजपा ऐंड कम्‍पनी की सरकारें हमारे लोगों का हर स्तर पर काफी शोषण करती हैं और विकास व उत्थान के मामले में इनकी जमकर उपेक्षा की जाती है।

mayawati

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इतना ही नहीं ये पार्टियां अपने राजनीतिक स्‍वार्थ और फायदे के लिए इन वर्गों की बहन-बेटियों पर कोई जुल्‍म-ज्‍यादती होने पर इसकी आड़ में ड्रामा भी खूब करती हैं। इसके हाथरस जैसे अनेक उदाहरण हैं। उन्‍होंने कहा कि जबकि सच्‍चाई यह है कि कांगेस हो या भाजपा दोनों के राज में दलित समाज का कोई उत्‍थान या विकास नहीं हुआ। इसके उलट उनके साथ बड़े पैमाने पर जुल्‍म और ज्‍यादती हुई है। सभी विरोधी पार्टिंयां अंदर-अंदर एक हैं।

शोषण करते रहने के लिए ये हम लोगों को गुलाम व लाचार बनाए रखना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में हर स्तर पर सावधानी बरतते हुए हमें अपने लोगों के हितों में केन्द्र व राज्यों की सत्ता अपने हाथों में लेनी है। इसके साथ ही मायावती ने पार्टी कार्यकर्ताओं से जातिवादी, पूंजीवादी और संकीर्ण मानसिकता वाली पार्टियों के दुष्प्रचार के प्रति सावधान रहने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि पूूरा ध्यान पार्टी को हर स्तर पर मजबूत बनाने पर केन्द्रित होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि बसपा संस्थापक काशीराम ने संविधान निर्माता बाबा साहेब आम्बेडकर के बताये रास्तों पर चलकर बसपा को चलाने और चुनाव लड़ने के लिये हमेशा अपनी पार्टी के लोगों से ही आर्थिक सहयोग लिया है, न कि कांग्रेस,भाजपा व अन्य दलों की तरह बड़े बड़े पूंजीपतियों और धन्ना सेठों से। ऐसे लोगों से पार्टी ने दूरी बनाईं और इसका बस एक ही कारण है कि सत्ता में आने पर सरकार को बदले में इन्हें फायदा पहुंचाने के लिए काम करना होता है।

मायावती ने कहा कि ऐसे संगठनों के पास धन बसपा की तरह अपने लोगों से नहीं आता है। इनके कार्यकर्ता लोगों को गुमराह करते हैं कि बसपा तो आए दिन चंदा ही इकट्ठा करती रहती है। जबकि बाबा साहेब के मिशन के नाम पर विरोधियों पर इशारे पर बने अनेक संगठन व पार्टियां बसपा के मूवमेंट को कमजोर करने के लिए जो आये दिन पानी की तरह पैसा बहाते हैं, उनके पास ये अपार धन कहां से आया, ये सोचने की बात है।

उन्होंने कहा कि बसपा कार्यकर्ताओं और बहुजन समाज को इन लोगों से सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि ये लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। इनका मकसद बसपा के मूवमेंट को कमजोर करना है। मायावती ने बसपा को सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय की पार्टी बताते हुए केन्द्र व राज्यें में मजबूत करने की अपील की। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा होता है कि​ बिहार विधानसभा चुनाव के साथ मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में उपचुनाव बसपा क नतीजा जरूर अच्छा आएगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *