लखनऊ में नौ जून से चलेगी मेट्रो ट्रेन, लेकिन मानने होंगे ये नियम

मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश से पहले होगी यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग, यात्रियों के लिए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य, सभी मेट्रो स्टेशनों पर शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए की गई मार्किंग 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरसीएल) 09 जून से लखनऊ में मेट्रो ट्रेन का संचालन फिर से शुरू करेगा। कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत यात्रियों को एक सीट छोड़कर बैठना होगा।
metro train lucknow
उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड ने मंगलवार को विज्ञप्ति जारी कर बताया कि 09 जून से लखनऊ में मेट्रो ट्रेन का संचालन सुबह 07 बजे से फिर से शुरू किया जाएगा। यात्रियों के सुरक्षित सफर के लिए मेट्रो ट्रेन और स्टेशनों में सैनिटाइजेशन और कॉन्टैक्टलेस यात्रा के खास इंतज़ाम किए गए हैं। लखनऊ में आखिरी मेट्रो ट्रेन शाम 07 बजे सीसीएस एयरपोर्ट और मुंशी पुलिया टर्मिनल स्टेशनों से रवाना होगी।
कोविड-19 की दूसरी लहर के मद्देनज़र लखनऊ मेट्रो रेल सेवा लगभग एक महीने से स्थगित है। अब अनलॉक-2 के दौरान सुरक्षित और सुविधाजनक यात्री सेवा के लिए लखनऊ मेट्रो ने एक बार फिर कई कदम उठाए हैं। इसके पहले कोविड-19 की पहली लहर से ही लखनऊ मेट्रो ने शहर वासियों की यात्रा को सबसे सुरक्षित बनाने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए थे। इन्हीं प्रयासों का नतीज़ा था कि लखनऊ मेट्रो ने पुनः आरम्भ होने के बाद अपनी राइडरशिप में देश की अन्य मेट्रो सेवाओं की तुलना में सबसे तेज प्रगति की थी।
यूपीएमआरसीएल ने इस बार लखनऊ मेट्रो में कॉन्टैक्ट-लेस यात्रा, सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेन्सिंग और स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए पूरी तैयारी कर ली है। मेट्रो ट्रेन में सफर के दौरान यात्रियों को मास्क पहनना जरुरी है। सभी स्टेशनों में प्रवेश से पहले थर्मल स्कैनिंग और हाथों को सैनिटाइज करने के प्रबंध किए गए हैं।

लखनऊ मेट्रो को सैनिटाइज करने के लिए अल्ट्रा-वॉयलेट तकनीक का प्रयोग

लखनऊ में मेट्रो ट्रेन को सैनिटाइज करने के लिए इस बार भी अल्ट्रा-वॉयलेट (यूवी) तकनीक का प्रयोग किया जाएगा। फिलहाल लखनऊ मेट्रो में इस तकनीक का प्रयोग पहले से ही किया जा रहा है। इस तकनीक का प्रयोग देश में सबसे पहले लखनऊ मेट्रो में ही हुआ है। यूवी तकनीक से कई मेट्रो ट्रेनें बहुत जल्दी सैनिटाइज हो जाती हैं।

मेट्रो स्टेशनों पर शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए की गई मार्किंग 

लखनऊ के सभी मेट्रो स्टेशनों पर शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए मार्किंग की गई है, ताकि मेट्रो परिसर के अंदर यात्रियों के बीच उपयुक्त दूरी सुनिश्चित की जा सके। टिकट काउंटर (टीओएम), टिकट वेंडिंग मशीन (टीवीएम), सुरक्षा जांच पॉइंट, प्रवेश-निकास हेतु एएफसी गेट आदि सभी जगहों पर जहां यात्रियों को लाइन लगानी पड़ती है। वहां फिजिकल-डिस्टेन्सिंग के लिए मार्किंग की गई है। मेट्रो ट्रेन के अंदर सीटों पर भी फिजिकल-डिस्टेन्सिंग के लिए मार्किंग की गई है, ताकि यात्री एक सीट छोड़कर बैठे सकें।

गो-स्मार्ट कार्ड के साथ होगी कॉन्टैक्ट-लेस यात्रा

लखनऊ मेट्रो के गो-स्मार्ट कार्ड धारकों को मेट्रो स्टेशन में प्रवेश से लेकर ट्रेन से यात्रा करने और मेट्रो परिसर से बाहर निकलने तक पूर्ण रूप से कॉन्टैक्ट-लेस यात्रा की सहूलियत मिलेगी। गो-स्मार्ट कार्ड को ऑनलाइन रिचार्ज कराने की भी सुविधा है। ऑटोमैटिक फेयर कलेक्शन (एएफसी) गेट पर प्रवेश के दौरान गो-स्मार्ट कार्ड को मशीन पर टैप करने की जरूरत नहीं पड़ती, बल्कि मशीन के ऊपर बने वाई-फाई के चिह्न के पास ले जाने भर से ही यात्रा की जानकारी सत्यापित हो जाती है।

गो-स्मार्ट कार्ड से यात्रा करने पर मिलेगी 10 प्रतिशत की छूट 

लखनऊ मेट्रो ट्रेन में गो-स्मार्ट कार्ड से सफर करने पर यात्रियों को 10 प्रतिशत की छूट मिलेगी। लखनऊ मेट्रो के गो-स्मार्ट कार्ड के साथ कैशलेस यात्री टोकन खरीदने की सुविधा भी मिलती है। ऐसी सुविधा देने वाली लखनऊ मेट्रो देश की पहली मेट्रो है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *