मिशन ‘ग्रीन’ यूपी : युवा स्थापित कर रहे पंचवटी, पंच पल्लव, नक्षत्र और नवग्रह वाटिका

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार पर्यावरण संरक्षण के लिये उल्लेखनीय कार्यकर रही है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में वृक्षारोपण किये जा रहे हैं। इस कार्य को युवा तबका गति प्रदान कर रहा है। विभिन्न जिलों में युवा पंचवटी, पंच पल्लव, नक्षत्र, राशि और नवग्रह वाटिका स्थापित कर रहे हैं। इसी के साथ आम लोगों में पेड़-पौधों के प्रति लगाव बढ़ाने के लिये जागरूकता अभियान भी चलाए जा रहे हैं।

योगी सरकार के प्रदेश को हरा भरा बनाने की मुहिम में युवा बड़ी संख्या में जुड़ रहे हैं। सीएम योगी के निर्देश पर कोरोना महामारी से दिवंगत हुए लोगों की स्मृति में ग्राम पंचायतों में पौधे लगाए जा रहे हैं। अयोध्या में राम वन गमन मार्ग पर अलग-अलग स्थानों पर रामयणकालीन वृक्षों की वाटिका बनाई जा रही हैं। प्रदेश में सौ वर्ष से अधिक आयु के वृक्षों को हेरिटेज वृक्ष के रूप में संरक्षित करने का काम भी शुरू हो गया है। गंगा के तटवर्ती क्षेत्रों में गंगा उद्यान लगाने का काम चल रहा है।

प्रदेश के युवा और सामाजिक संस्थाएं यूपी को पांच सालों में सौ करोड़ पौधे लगाने वाला राज्य बनाने के लिये जुटे हैं। मुख्यमंत्री द्वारा गंगा सेवक सम्मान से नवाजे जा चुके प्रयागराज निवासी मानस चिरविजय सांकृत्यायन की ओर से प्रदेश में विभिन्न जिलों में 55 पंचवटी, 45 पंच पल्लव, 01 नक्षत्रवाटिका, 03 नवग्रह वाटिका और 01 राशि वाटिका स्थापित की गई हैं।

सांकृत्यायन मानस पर्यावरण संरक्षण संस्थान के संस्थापक है और मिशन ग्रीन यूपी को बढ़ाने में जुटे हैं। इसी तरह आजमगढ़ निवासी सिद्धार्थ सिंह और लखनऊ के अंकुर जौली 1000 से अधिक वृक्ष रोप चुके हैं। इनका लक्ष्य साल के अंत तक 500 पौधों का रोपने का है।

इसी तरह प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में ज्येष्ठ लेखाकार कृष्णानन्द राय पर्यावरण पर गीत और कविताएं लिखते हैं। वह कहते हैं कि ‘पेड़ लगाकर देखो भईया-अच्छे दिन आ जाएंगे’। उन्होंने अब तक 1000 से अधिक पौधे लोगों को रोपने के लिये बांटे हैं। सरकारी नौकरी में होने के बाद भी इनका पूरा जीवन पर्यावरण को समर्पित है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *