बड़ी खबर- कोविशील्ड से ज्यादा एंटीबॉडी, शोध पर भारत बायोटेक ने उठाए ये सवाल

कोवैक्सीन डेटा जुलाई में होगा सार्वजनिक भारत बायोटेक ने बताया कि फेज 3 का ट्रायल डेटा पहले सीडीएससीओ के पास भेजा जाएगा।

नई दिल्ली॥ कोवैक्सीन की तुलना में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड वैक्सीन ज्यादा एंटीबॉडी बनाती है, इस शोध पर भारत-बायोटेक (Bharat Biotech) ने प्रश्न खड़ा कर दिया हैं।

covid,america,vaccine

भारत बायोटेक ने कहा है कि इस शोध में कई कमियां हैं। इस शोध का पीयर-रिव्यू नहीं हुआ है और न ही सांख्यिकी-वैज्ञानिक पैमाने पर सही बैठती है। भारतीय कंपनी ने कहा कि ये रिसर्च सीटीआरआई की वेबसाइट पर रजिस्टर नहीं है और ना ही सीडीएससीओ और एसईसी द्वारा मान्यता मिली है। फिर कैसे कोई इस प्रकार के रिसर्च को प्रकाशित कर सकता है।

ऑक्सफोर्ड के टीके का भारत में ट्रायल सीरम इंस्टिट्यूट ने किया है और वो इसे कोविशील्ड के नाम से बेच रहा है। वहीं, कोवैक्सीन को आईसीएमआर और भारत-बायोटेक ने मिलकर बनाया है। कोवैक्सीन डेटा जुलाई में होगा सार्वजनिक भारत बायोटेक ने बताया कि फेज 3 का ट्रायल डेटा पहले सीडीएससीओ के पास भेजा जाएगा। डेटा के जर्नल में प्रकाशित होने के बाद कोवैक्सीन के फेज 3 ट्रायल का पूरा डेटा जुलाई महीने तक सार्वजनिक कर दिया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *