धौरहरा से भाजपा सांसद रेखा वर्मा पर नड्डा ने जताया भरोसा, भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनीं

ओबीसी कोटे से आने वाली रेखा वर्मा अपने समाज में काफी सक्रिय रहतीं हैं। शनिवार को जब जेपी नड्डा की लिस्ट में रेखा वर्मा का नाम आया तब जनपद लखीमपुर में उनके समर्थकों ने खूब जश्न मनाया। भाजपा कार्यालय एवं उनके गांव मकसूदपुर में मिठाई बांटी गई।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को अपनी नई टीम में उत्तर प्रदेश के धौरहरा की चर्चित सांसद रेखा वर्मा पर भरोसा जताया है। नड्डा ने उन्हें भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी है। वह राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की ओर से घोषित उन 12 राष्ट्रीय उपाध्यक्षों की टीम में हैं, जिसमें रमन सिंह, वसुंधरा राजे सिंधिया, राधा मोहन सिंह और रघुवरदास जैसे दिग्गज शामिल हैं। सांसद रेखा वर्मा ने 2014 के चुनाव से उन्होंने सक्रिय राजनीति में कदम रखा था।

bjp mp rekha verma

 

यहां आपको बता दें कि ओबीसी कोटे से आने वाली रेखा वर्मा अपने समाज में काफी सक्रिय रहतीं हैं। शनिवार को जब जेपी नड्डा की लिस्ट में रेखा वर्मा का नाम आया तब जनपद लखीमपुर में उनके समर्थकों ने खूब जश्न मनाया। भाजपा कार्यालय एवं उनके गांव मकसूदपुर में मिठाई बांटी गई। वह जिले की पहली भाजपा नेता है जिन्हें राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल किया गया है। बता दें कि लखीमपुर जिले के पसगावां ब्लाक के मोहम्मदी की निवासी रेखा वर्मा की गिनती तेज तर्रार नेताओं में होती है। इनके खिलाफ सिपाही ने थप्पड़ मारने के बाद केस दर्ज कराया था तो सीतापुर के महोली से भाजपा विधायक शशांक त्रिवेदी से इनकी नोंकझोंक भी जाहिर है।

bjp mp rekha verma santosh verma

पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को लगातार दो बार हराकर भाजपा आलाकमान ने दिया इनाम–

सांसद रेखा वर्मा ने धौरहरा लोकसभा क्षेत्र से ब्राह्मण समुदाय और कांग्रेस के कद्दावर नेता जितिन प्रसाद को लगातार दो लोकसभा चुनाव में (2014, 2019) शिकस्त देकर भाजपा आलाकमान का ध्यान खींचा था । अब जेपी नड्डा की टीम में सांसद रेखा वर्मा का कद पार्टी में बढ़ गया है। आलाकमान ने उनको राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी दी है। रेखा वर्मा ने दिल्ली की सियासत से जुड़ने के बाद भी गांव की जमीन से नाता कभी नहीं छोड़ा। वह पहले भी स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत परामर्श समिति की सदस्या रह चुकी हैं।

ब्लॉक प्रमुख पद से राजनीति की शुरुआत

वर्ष 2000 में पसगवां ब्लॉक प्रमुख पद से राजनीति की शुरुआत की। इसके बाद 2005 में फिर ब्लॉक प्रमुख बनीं। इस बीच 2002 में हैदराबाद विधानसभा से चुनाव लड़ा, लेकिन सफलता नहीं मिली। इसके बाद पति अरुण वर्मा की मृत्यु के बाद सन 2014 में भाजपा के टिकट पर धौरहरा से लोकसभा का चुनाव लड़कर विजय हासिल की। इस चुनाव में उन्होंने केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को करारी मात दी। इसके बाद 2019 में फिर भाजपा की टिकट पर सांसद बनीं।

सांसद रेखा वर्मा को पार्टी हाई कमान द्वारा दी गयी इस बड़ी जिम्मेदारी को लेकर उनके संसदीय क्षेत्र में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी है। बता दें कि सांसद रेखा वर्मा कुर्मी समाज की बड़ी नेता मानी जाती है। इतना ही नहीं कुर्मी समाज के अलावा अन्य पिछड़ी जातियों में भी सांसद रेखा वर्मा काफी लोकप्रिय हैं। पार्टी के पूर्व एमएलसी प्रत्यासी संतोष वर्मा ने अपनी क्षेत्रीय सांसद को मिली इस बड़ी जिम्मेदारी से ख़ुशी जाहिर कर बधाई देते हुए कहा है कि अब क्षेत्र का विकास और तेजी से गति पकड़ेगा साथ ही संगठन अब और मजबूती मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *