न वीजा न पासपोर्ट, फिर भी इस गांव के लोगों को मिली है 2 देशों की नागरिकता, जानिए क्यों?

नई दिल्ली: 1947 में हुए भारत-पाक बंटवारे की भयावह तस्वीरें आज भी लोगों के जेहन में ताजा हैं, जब सिर्फ सरहद के नाम पर हजारों बेगुनाहों को मौत के घाट उतार दिया गया था, लेकिन भारत में एक गांव ऐसा भी है जो सबसे अहम हिस्सा है. देश की। सीमा के करीब। दुनिया। शांति एक उदाहरण हो सकता है। यह गांव अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित है। यह गांव भारत के नागालैंड प्रांत में स्थित है। इसका नाम लोंगवा है।

यह बहुत ही खूबसूरत जगह है जिस पर प्रकृति भी बहुत मेहरबान है। यह नागालैंड के मोन जिले में है लेकिन अंतरराष्ट्रीय सीमा भी इससे होकर गुजरती है। इन सबके बावजूद इस गांव में न तो किसी तरह का तनाव है और न ही किसी तरह का दहशत. इस गांव से जुड़ी दिलचस्प बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा गांव के मुखिया के घर से निकलती है। उनका आधा घर भारत में और आधा म्यांमार में है। इस परिवार का खाना म्यांमार में पकाया जाता है और ये भारत में आराम करते हैं। यही हाल कई घरों का है। यही खूबी इस गांव को औरों से अलग बनाती है।

लोंगवा गांव के लोगों के पास दोनों देशों की नागरिकता है यानी वे भारत के साथ-साथ म्यांमार के भी नागरिक हैं। ग्राम प्रधान का एक बेटा भी म्यांमार की सेना में है। देश के नाम पर किसी तरह का टकराव और तनाव बिल्कुल नहीं है। मूल रूप से यह गांव आदिवासियों और उनकी प्राचीन परंपराओं से जुड़ा हुआ है। यहां की मान्यता के अनुसार मुखिया एक से अधिक विवाह करता है।

यहाँ तक कि इनकी संख्या भी 60 रही है। बहुत पहले यहाँ की जनजातियों के बीच आपसी युद्ध हुआ करता था। फिर एक गोत्र ने दूसरे गोत्र के लोगों की गर्दन काट दी और उसे जीत के प्रतीक के रूप में रख लिया। अब तो यह परंपरा बंद हो गई है, लेकिन आज भी खोपड़ियों के ढेर उन परंपराओं की यादें ताजा कर देते हैं।