ओलंपिक और भारत : 1900 के पेरिस ओलंपिक से 2021 के टोक्यो ओलंपिक तक

ओलंपिक खेलों से भारत का नाता बहुत पुराना नहीं है। ब्रिटिश शासन काल में वर्ष 1900 में भारत ने पहली बार ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया था और सिर्फ एक एथलीट भेजा था।

ओलंपिक खेलों से भारत का नाता बहुत पुराना नहीं है। ब्रिटिश शासन काल में वर्ष 1900 में भारत ने पहली बार ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया था और सिर्फ एक एथलीट भेजा था। उस एथलीट का नाम नॉर्मन प्रिचर्ड था। नॉर्मन प्रिचर्ड ने देश के लिए पुरुषों की 200 मीटर की रेस और 200 मीटर हर्डल इवेंट में मेडल जीते थे। उसके बाद से भारत प्रत्येक ओलंपिक में हिस्सा लेता रहा है। वर्ष 1920 में भारत ने पहली बार ओलंपिक खेलों में अपनी टीम भेजी थी। इस टीम में 06 एथलीट और 02 रेसलर थे। हालांकि भारत को अपने अगले मेडल के लिए वरह 1928 तक प्रतीक्षा करना करनी पड़ी थी। 

1928 के एम्सटर्डम ओलंपिक में भारत को हॉकी में अपना पहला गोल्ड मेडल मिला। भारत ने ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड को और फाइनल में नीदरलैंड को हराया। 1932 में भारत ने अमेरिका को 24-1 के रिकॉर्ड अंतर से हराया, जो आज भी कायम है। 1936 के बर्लिन ओलंपिक में जर्मनी को 8-1 से पराजित किया था।

वर्ष 1948 के लंदन ओलंपिक में भी भारत ने हॉकी में गोल्ड मेडल जीता। स्वतंत्र भारत में भारत का ये पहला ओलंपिक मेडल था। 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक में भारत को पहला इंडीविजुअल मेडल मिला। इसके साथ ही भारत ने हॉकी में गोल्ड जीता था। 1956 के मेलबर्न ओलंपिक में भी हॉकी का गोल्ड मेडल भारत आया। हालांकि 1960 के रोम ओलंपिक में हॉकी में भारत को सिल्वर मेडल ही मिल सका।

इसी तरह 1964 के टोक्यो ओलंपिक में भारत ने हॉकी में एक बार फिर गोल्ड मेडल जीता। 1968 के मेक्सिको सिटी ओलंपिक में और 1972 के म्यूनिख ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम को ब्रोन्ज मेडल मिला। इसी तरह 1980 के मॉस्को ओलंपिक में भारत ने फील्ड हॉकी में गोल्ड मेडल जीता।

इसी तरह 1996 के अटलांटा ओलंपिक में लिएंडर पेस ने टेनिस में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इसके बाद वर्ष 2000 के सिडनी ओलंपिक में भारत की कर्णम मल्लेश्वरी ने भारोत्तोलन में 69 किलो वीमेंस कैटेगरी में ब्रोन्ज मेडल जीता। इसी तरह 2004 के एथेंस ओलंपिक में भारत के शूटर राज्यवर्धन सिंह राठौर ने मेंस डबल ट्रैप में शूटिंग में सिल्वर मेडल जीता। इसी तरह 2008 के बीजिंग ओलंपिक में भारत ने पहली बार इंडीविजुअल गोल्ड मेडल जीता। भारत के शूटर अभिनव बिंद्रा ने मेंस 10 मीटर एयर राइफल केटेगरी में गोल्ड मेडल सुशील कुमार ने कुश्ती में ब्रोन्ज मेडल, और मुक्केबाज विजेंद्र सिंह ने बॉक्सिंग में ब्रॉन्ज मेडल जीता।

ओलंपिक के इतिहास में वर्ष 2012 का लंदन ओलंपिक भारत के लिए यादगार रहेगा। लंदन ओलंपिक में भारत ने 6 ओलंपिक मेडल जीते। भारत के विजय कुमार ने मेंस 25 रैपिड फायर पिस्टल में सिल्वर मेडल, गगन नारंग मेंस 10 मीटर एयर राइफल में ब्रोन्ज मेडल, सुशील कुमार ने मेंस फ्रीस्टाइल 66 किलो वर्ग में सिल्वर मेडल, योगेश्वर दत्त ने मेंस फ्रीस्टाइल 60 किलो वर्ग में ब्रोन्ज मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया। इसी तरह सायना नेहवाल ने बैडमिंटन के वीमेंस सिंगल्स में ब्रोन्ज मेडल और मैरीकॉम ने वीमेंस फ्लाइवेट में ब्रोन्ज मेडल जीतकर इतिहास रचा।

2016 के रियो ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। इसमें भर को महज दो मेडल से संतोष करना पड़ा। रियो ओलंपिक में वीमेंस फ्रीस्टाइल 58 किलो वर्ग में साक्षी मालिक ने ब्रोन्ज मेडल जीता। बताते चलें की साक्षी भारत के लिए कुश्ती में पदक लाने वाली पहली महिला पहलवान हैं। पीवी सिंधु ने बैडमिंटन के वीमेंस सिंगल्स में सिल्वर मेडल ही जीत सकी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *