कोरोना संकट में पाकिस्तान हुआ पस्त, कर्ज के लिए अब यहाँ पर फैलाया हाथ

कोरोना संकट के कारण पाकिस्तान की हालत पस्त होने लगी है. आपको बता दें कि ऐसे में पाकिस्‍तान नकदी संकट से जूझ रहा है। इससे उबरने के लिए पाकिस्तान सरकार ने अब वैश्विक वित्तीय संस्थाओं से दो अरब डॉलर का नया कर्ज मांगने की योजना बनाई है। एक मीडिया रिपोर्ट में बुधवार को यह जानकारी दी गई।

वहीं पाकिस्तान को कोरोना वायरस महामारी का मुकाबला करने के लिए मदद की दरकार है जबकि सरकार के खजाने की स्थिति तेजी से बिगड़ रही है।अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि पाकिस्तान ने विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक (एडीबी) से जो नया कर्ज मांगा है, वह जी-20 देशों से मांगे गए कर्ज के मुकाबले अधिक है।

आपको बता दें कि इस्लामाबाद ने जी-20 देशों से 1.8 अरब डॉलर मांगे हैं। वहीं इसी बीच एडीबी और पाकिस्तान पाकिस्तान के बीच 30.5 करोड़ रुपये के कोविड-19 आपातकालीन ऋण पर सहमति हुई है, ताकि चिकित्सा उपकरण खरीदे जा सकें और गरीब महिलाओं को वित्‍तीय मदद दी जाए।

अब एशियाई विकास बैंक वाणिज्यिक शर्तों पर ऋण राशि को बढ़ाएगा। पाकिस्तान को पिछले महीने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से 1.39 अरब अमरीकी डॉलर का आपातकालीन ऋण और विश्व बैंक से 20 करोड़ डॉलर की सहायता मिली थी। अनुमान है कि पाकिस्तान का सार्वजनिक ऋण इस साल जून तक बढ़कर 37,500 अरब पाकिस्तानी रुपये या सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 90 प्रतिशत हो जाएगा।


रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान सिर्फ इस साल ही कर्ज चुकाने पर 2,800 अरब रुपये खर्च करेगा जो संघीय राजस्व बोर्ड के अनुमानित कर संग्रह का 72 प्रतिशत है। दो साल पहले जब पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार सत्ता में आई थी, तब सार्वजनिक ऋण 24,800 लाख करोड़ रुपये था, जो तेजी से बढ़ रहा है। पाकिस्तान में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के 469 नए मामले सामने आए। अब तक कुल 45,898 लोगों को संक्रमण हो चुका है और 985 की मौत हुई है।

पीएम इमरान खान की पार्टी की नेत्री की कोरोना वायरस से मौत, किया था हॉस्पिटल का दौरा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *