Dudhwa Tiger Reserve को मिला ये प्रतिष्ठित अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कार

उत्तर प्रदेश राज्य के दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) को प्रतिष्ठित अन्तर्राष्ट्रीय प्रमाणन से अलंकृत किया गया है। वैश्विक बाघ दिवस 29 जुलाई, 2021

उत्तर प्रदेश राज्य के दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) को प्रतिष्ठित अन्तर्राष्ट्रीय प्रमाणन से अलंकृत किया गया है। वैश्विक बाघ दिवस 29 जुलाई, 2021 के अवसर पर नई दिल्ली में आयोजित समारोह में यह सम्मान देश के 13 अन्य टाइगर रिजर्वों सहित दुधवा टाइगर रिजर्व, उत्तर प्रदेश को भी दिया गया था !

Dudhwa Tiger Reserve

इस सम्बन्ध में पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जानकारी दी गयी। यह अलंकरण विश्व स्तर पर व्याघ्र संरक्षण अथवा लक्षित प्रजाति के संरक्षण हेतु किये जा रहे प्रबन्धन के उच्चतम मापदण्डों पर खरा उतरने वाले टाइगर रिजर्व/संरक्षित क्षेत्रों (Dudhwa Tiger Reserve) को ही दिया जाता है।

संरक्षण के प्रयासों को मापने हेतु वैश्विक तौर पर स्वीकृत इस प्रमाणन से यह स्पष्ट होता है कि सम्बन्धित संरक्षित क्षेत्र का प्रबन्धन बेहतर तरीके से किया जा रहा है। (Dudhwa Tiger Reserve)

वर्ष 2013 में औपचारिक रूप से आरम्भ हुये प्रमाणन की इस प्रक्रिया में वाह्य अभिकरणों एवं विशेषज्ञों द्वारा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय तौर पर कई कसौटियों पर प्रबन्धन का मूल्यांकन किया जाता है, जिसमें साक्ष्यों का परीक्षण भी किया जाता है। पूर्णतया सन्तुष्ट होने पर ही प्रमाणन प्रदान किया जाता है। (Dudhwa Tiger Reserve)

दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve) को यह उपलब्धि बाघ संरक्षण के लिये निरन्तर किये जा रहे प्रयासों, जैव विविधता संरक्षण, बाघ संरक्षण के साथ-साथ हित ग्राहियों के आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक उन्नयन में योगदान, अन्तर्विभागीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय समन्वय, उन्नत प्राकृतवास सम्वर्द्वन, प्रभावी प्रवर्तन एवं शिकार रोधी प्रयासों, प्रबन्धन तंत्र की पारदर्शिता, कुशलता एवं उत्तरदायी दृष्टिकोण, मानव-वन्य जीव नकारात्मक अन्तरापृष्ठ सम्बन्धी घटनाओं की रोकथाम हेतु किये जा रहे प्रयास, स्थानीय समुदायों की भागीदारी सुनिश्चि करने हेतु उनके साथ समुचित सामन्जस्य, सुदृढ़ अवसंरचनात्मक ढांचे की उपलब्धता, बेहतर पर्यटन अवसंरचना की उपलब्धता, प्रकृति व्याख्या हेतु किये जा रहे कार्य, परिष्कृत एम-स्ट्राईप्स ऐप का उपयोग करते हुये प्रभावी पेट्रोलिंग, अपराध अनुश्रवण एवं नियंत्रण, वन्य जीव प्रबन्धन हेतु प्रशिक्षित कर्मचारियों की उपलब्धता इत्यादि बिन्दुओं के आलोक में प्राप्त हो सकी है।

दुधवा टाइगर रिजर्व (Dudhwa Tiger Reserve), राष्ट्रीय व्याघ्र संरक्षण प्राधिकरण, भारत सरकार एवं भारतीय वन्य जीव संस्थान, देहरादून द्वारा तैयार किये गये परिष्कृत एम स्ट्राईप्स ऐप का उपयोग करते हुये वन क्षेत्रों में प्रभावी गश्त करने के मामले में देश में अग्रणी रहा है। इसके अतिरिक्त रिजर्व के वैज्ञानिक ढंग से प्रबन्धन पर भी भरपूर बल दिया जा रहा है।

देश के टाइगर रिजर्वाे (Dudhwa Tiger Reserve) में अन्तर्राष्ट्रीय तौर पर प्रतिष्ठित यह उपलब्धि प्राप्त करना उत्तर प्रदेश राज्य के लिये गौरव का विषय है। राज्य अपने राष्ट्रीय पशु बाघ एवं उसके प्राकृतवास संरक्षण हेतु सतत् प्रयत्नशील एवं कृत संकल्प है।

भाईचारे के प्रतीक राजधानी के इस मंदिर को बम उड़ाने की धमकी, गिरफ्तार मुजाहिदों की रिहाई की मांग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *