बारिश से रबी की फसलों को होगा फायदा, बाहर पड़े धान के कारण बादलों ने किसानों की बढ़ाई चिंता

कहीं-कहीं बूंदाबांदी के साथ राज्य में छाये बादलों ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। यह चिंता धान बाहर होने के कारण बढ़ी है।

कहीं-कहीं बूंदाबांदी के साथ राज्य में छाये बादलों ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। यह चिंता धान बाहर होने के कारण बढ़ी है। किंतु, रबी की फसलों के लिए हल्की बारिश लाभदायक भी है। मौसम विभाग के मुताबिक अभी दो दिन तक प्रदेश में बादल छाए रहने की आशंका है। वहीं कृषि विशेषज्ञों के जनवरी माह में हल्की बारिश रबी की हर फसल के लिए लाभदायक होता है। अगर भयंकर वर्षा हो गयी तो सरसों को कुछ नुकसान पहुंचा सकता है।

crop

आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि पहाड़ों पर सक्रिय चल रहे पश्चिमी विक्षोभ के कारण पछुआ हवा कमजोर पड़ी है। ठंडी हवाओं का प्रभाव उतना नहीं रहा। इसके कारण अगले दो दिन तक बादल छाए रहने की संभावना है। गुरुवार से मौसम सामान्य होना शुरू होगा। इस बीच कहीं-कहीं ओले भी पड़ सकते हैं।

वहीं उद्यान विभाग के उप निदेशक अनीस श्रीवास्तव का कहना है कि वायुमंडल में 78 प्रतिशत नाइट्रोजन है और जब बारिश होती है तो वह कुछ अंश लेकर आता है। इससे फसलों को फायदा ही होगा। उन्होंने हिन्दुस्थान समाचार से विशेष वार्ता में कहा कि जनवरी माह का बारिश हमेशा रबी की फसल को फायदा पहुंचाता है। फरवरी माह में अगर वर्षा होती है तो वो फसल के लिए नुकसान दायक है। यदि इस बीच ओला गिर गया तो वह फसल के लिए नुकसानदायक है।

उन्होंने कहा कि बरसात होने के कारण ठंड का असर कम हो जाएगा। इससे ठंड के कारण होने वाले रोग से फसल को मुक्ति मिल जाएगी। पानी गिरने से फसलों की पत्तियां साफ हो जाएगी। इससे ज्यादा फायदेमंद होता है। यदि बारिश हो गयी तो पौधों की वृद्धि अधिक होती है। इससे पैदावार भी बढ़ जाती है। बदल रहे मौसम से किसानों को बहुत घबराने की जरूरत नहीं है। बारिश का होना केला, मिर्च, टमाटर सबके लिए लाभदायक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *