बारिश बनी आफत: घर में ही जिन्दा दफन हुए नौ मजदूर, अब तक इतनों की गई जान

उत्तराखंड में पिछले चौबीस घंटे से लगातार हो रही बारिश ने राज्य के लोगों के लिए बड़ी मुश्किल पैदा कर दी है। चारों तरफ बाढ़ का ही सैलाब दिख...

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले चौबीस घंटे से लगातार हो रही बारिश ने राज्य के लोगों के लिए बड़ी मुश्किल पैदा कर दी है। चारों तरफ बाढ़ का ही सैलाब दिख रहा है। नैनीताल के पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह से आई आपदा ने एक साथ नौ मजदूरों की जान ले ली। वहीं एक अन्य घटना में दीवार ढहने से पांच मजदूरों की मौत हो गयी जबकि दो लोग पहाड़ी से मलबा गिरने से काल के गाल में समा गए। घर में मलबा आने से 10 लोगों के मरने की सूचना भी है। रेस्क्यू टीम के घटनास्थल पहुंचने पर ही मरने वालों की सही संख्या पता चल पाएगी। आपदा की सूचना मिलते ही प्रशासन की ओर से राहत व बचाव का कार्य शुरू कर दिया है।

uttrakhand flood

मिली जानकारी के मुताबिक नैनीताल जिले में कल रात से लगातार हो रही बारिश के चलते रामगढ़ ब्लॉक के झुतिया सुनका ग्रामसभा में नौ मजदूर घर में ही जिंदा दफन हो गए हैं। ये सभी मजदूर मोटर मार्ग के निर्माण कार्य में लगे हुए थे। बताया जाता है कि जब शाम को ये लोग पास में ही बने एक मकान में रह रहे थे तभी इनके ऊपर अचानक से मलबा आ गिरा जिसमें नौ मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गयी, जबकि एक मजदूर गंभीर रूप से घयल हो गया।

सड़क बंद होने की वजह से मजदूरों के शव नहीं निकाले जा सके हैं। सभी मजदूर उत्तरप्रदेश और बिहार के रहने वाले हैं। वहीं, जिले के दोषापानी में भी भूस्खलन के कारण 3 ग्रामीणों की मौत हो गयी है। इसके अलावा मलबा आने से क्वारब में भी 2 मजदूरों की मौत हो गयी है। इधर जिले के दोसा में भारी बारिश के चलते पांच मजदूरों की दीवार के नीचे दबने से मौत हो गई। सभी मजदूर बिहार के चंपारण एवं उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर जिले के रहने वाले थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *