रेलवे का संकल्प, न गंदगी करेंगे और न करने देंगे, सफाई रखेंगे, दूसरों से भी रखवाएंगे

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत प्रधानमंत्री के आह्वान के अनुपालन के क्रम में 16 से 30 सितम्बर, 2020 तक भारतीय रेलवे द्वारा स्वच्छता पखवाड़ा "मनाया जा रहा है। इस देशव्यापी निर्णय को अमल में लाते हुए पश्चिम रेलवे ने भी इस पखवाड़े के दौरान अपने सभी रेल परिसरों को संवारने के लिए विभिन्न स्वच्छता गतिविधियों की शुरुआत की है

मुंबई, 21 सितंबर, यूपी किरण स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत प्रधानमंत्री के आह्वान के अनुपालन के क्रम में 16 से 30 सितम्बर, 2020 तक भारतीय रेलवे द्वारा स्वच्छता पखवाड़ा “मनाया जा रहा है। इस देशव्यापी निर्णय को अमल में लाते हुए पश्चिम रेलवे ने भी इस पखवाड़े के दौरान अपने सभी रेल परिसरों को संवारने के लिए विभिन्न स्वच्छता गतिविधियों की शुरुआत की है। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक और स्वच्छता के बारे में गांधीवादी दर्शन के अनुपालक आलोक कंसल ने 16 सितम्बर, 2020 को पश्चिम रेलवे पर मनाये जा रहे स्वच्छ्ता पखवाड़े का शुभारम्भ किया। महाप्रबंधक कंसल पश्चिम रेलवे के इस विशेष स्वछता अभियान का कुशल नेतृत्व करते हुए सभी स्तरों पर इसे बखूबी आगे बढ़ाने के लिए उल्लेखनीय मार्गदर्शन दे रहे हैं।

16 से 20 सितम्बर, 2020 तक इस अभियान के पहले पांच दिनों में स्वच्छता जागरूकता, स्वच्छ स्टेशन और स्वच्छ रेलगाड़ी जैसी विभिन्न संकल्पनाएं साकार हुईं। यह अभियान 15 दिनों तक चलेगा, जिसमें स्वच्छता के प्रति जागरूकता, स्वच्छ स्टेशन, स्वच्छ रेलगाड़ी, स्वच्छ ट्रैक, स्वच्छ परिसर, स्वच्छ डिपो, स्वच्छ रेलवे कॉलोनियां/ अस्पताल, स्वच्छ शौचालय, स्वच्छ जल, स्वच्छ पेंट्री कार/कैंटीन, नो प्लास्टिक डे, स्वच्छ प्रतियोगिता जैसे विभिन्न विषयों की संकल्पनाएं साकार होंगी। महात्मा गांधीजी की 151 वीं जयंती के उपलक्ष्य में 2 अक्टूबर, 2020 को श्रमदान के साथ इस पखवाड़े का समापन होगा। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, स्वच्छ पखवाड़ा अभियान के दौरान पश्चिम रेलवे द्वारा स्टेशन परिसरों, ट्रेनों, रेल पटरियों, रेलवे कार्यालयों, कॉलोनियों, कार्यशालाओं, कोचिंग डिपो और अस्पतालों की स्वच्छता पर मुख्य रूप से ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। इस अवसर पर महाप्रबंधक कंसल ने सभी से अपने – अपने कार्यालयों और साथ ही अपने घरों में स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए श्रमदान करने की अपील की है।पश्चिम रेलवे के इस पखवाड़े के दौरान, अब तक कुल 101.9 टन कचरा एकत्र किया गया है, जिसमें 16.3 टन प्लास्टिक कचरा, 24.5 टन सूखा कचरा और 61.08 टन गीला कचरा शामिल है।

पखवाड़े के दौरान विभिन्न रेलवे स्टेशनों, कार्यशालाओं, डिपो, शेड, रेलवे संस्थानों, स्कूलों और रेलवे कॉलोनियों में एहतियात के तौर पर धूमन, स्वच्छता और एंटी लार्वा स्प्रे किया गया। कीटनाशक और एंटी लार्वा का छिड़काव 241 स्थानों पर किया गया, जबकि 45 स्थानों पर फॉगिंग की गई और 1041 स्थानों पर अवांछित मलबा साफ किया गया।पिछले पांच दिनों के दौरान सामाजिक प्रोटोकॉल के सभी मानदंडों का अनुपालन करते हुए 4400 से अधिक रेलवे अधिकारियों, कर्मचारियों और उनके परिवार के सदस्यों, गैर सरकारी संगठनों, हितधारकों और ट्रेड यूनियनों ने सामूहिक श्रमदान में भाग लिया। इसी तरह, इस अभियान की शुरुआत से अभी तक पश्चिम रेलवे में 100 से अधिक पेड़ लगाये जा चुके हैं। पिछले पांच दिनों के दौरान 47 व्यक्तियों को एंटी-लिटरिंग अभियान में पकड़ा गया और दंडित कर 9600 रु. का जुर्माना वसूल किया गया।  ठाकुर ने बताया कि पश्चिम रेलवे के सभी छह डिवीजनों में स्वच्छ्ता पखवाड़ा व्यापक रूप से मनाया जा रहा है और सामाजिक सरोकार के आवश्यक प्रोटोकॉल का पालन भी सभी के द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है। विभिन्न कार्य स्थलों, स्टेशनों और कार्यालयों में स्वच्छ वातावरण बनाये रखने के लिए विशेष जोर दिया जा रहा है।

मुंबई डिवीजन में मुख्य रूप से विभिन्न प्लेटफार्मों, एफओबी, एस्केलेटर, ट्रैक, स्टेशन, नालियों और परिसंचरण क्षेत्रों से कचरे को हटाने पर ध्यान दिया जा रहा है।सिंगल यूज प्लास्टिक के समुचित निपटारे के लिए चर्चगेट स्टेशन पर चार बॉटल क्रशिंग मशीनें लगाई गई हैं। यात्रियों को गीले और सूखे कचरे हेतु प्लेटफाॅर्मों और स्टेशन परिसरों में प्रदान किये गये अलग-अलग डस्टबिनों का उपयोग करने के लिए भी जागरूक किया जा रहा है। स्वच्छ्ता जागरूकता और COVID 19 ऑडियो-विजुअल संदेशों को डिजिटल स्क्रीन के माध्यम से स्टेशनों पर और साथ ही सार्वजनिक घोषणा प्रणाली के माध्यम से रिले किया जा रहा है।वडोदरा डिवीजन के अंतर्गत स्वच्छ्ता के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए “संस्कृति टीम” द्वारा वडोदरा स्टेशन पर नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन किया गया। भरूच स्टेशन पर, मेसर्स बिड़ला सेंचुरी ग्रुप द्वारा सीएसआर के तहत एक वर्टिकल गार्डन स्थापित किया जा रहा है। मैसर्स इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड द्वारा सीएसआर के तहत आणंद, भरूच और छपरिया स्टेशनों पर तीन बॉटल क्रशिंग मशीनें लगाई गई हैं।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *