इस वजह से बीएसपी व समाजवादी पार्टी का टूटा गठबंधन, मायावती ने अखिलेश को लेकर कही ये बात

बसपा चीफ ने कहा कि पार्टी आने वाले एमएलसी चुनाव में सपा को 'जैसे को तैसा' जवाब देगी।

उत्तर प्रदेश॥ राज्य में राज्यसभा की नौ सीटों पर होने वाले इलेक्शन में सपा की सेंधमारी से नाराज बसपा चीफ मायावती ने अखिलेश यादव पर निशाना साधा है। बीते कल को मीडिया से बसपा चीफ ने कहा कि पार्टी आने वाले एमएलसी चुनाव में सपा को ‘जैसे को तैसा’ जवाब देगी।

akhilesh maya

सपा के दूसरे प्रत्याशी को हराने के लिए बसपा अपनी पूरी ताकत लगा देगी। इसके लिए चाहे बीएसपी के विधायकों को भाजपा तथा अन्य किसी भी विरोधी पार्टी के प्रत्याशी को ही अपना वोट क्यों न देना पड़े।

जो पार्टी एमएलसी इलेक्शन में सपा के दूसरे प्रत्याशी को हराती दिख रही होगी मायावती के एमएमए उसे ही अपना वोट देंगे। अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए बसपा चीफ ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने बताया कि एसपी दूसरा प्रत्याशी नहीं खड़ा कर रही।

राष्ट्रीय सचिव, सपा ने कहा कि मायावती का बयान इस बात की स्वीकारोक्ति है कि उनकी बीजेपी से पहले ही साठगांठ थी। बसपा चीफ ने अपनी पोल खुद ही खोल दी है।

यदि हम उम्मीदवार नहीं देंगे तो कोई पूंजीपति हमारे विधायकों की खरीद-फरोख्त कर राज्यसभा सीट जीत जाएगा। हम यह सोचकर चल रहे थे कि डिंपल यादव चुनाव हार गई हैं, यदि वह राज्यसभा चुनाव लड़ती हैं तो बीएसपी उनको जिताने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

सतीश मिश्र के क़ॉल का सपा अध्यक्ष ने नहीं दिया जवाब

बसपा चीफ ने कहा कि सतीश मिश्र ने सपा अध्यक्ष को फोन किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। निजी सचिव ने भी बात नहीं करवाई। सतीश ने एसपी महासचिव रामगोपाल यादव से बात की तो उन्होंने कहा कि एसपी केवल एक सीट पर चुनाव लड़ेगी।

इसके बाद बसपा ने रामजी गौतम को उम्मीदवार बनाया मगर सपा ने षड्यंत्र के अंतर्गत अंतिम मौके पर निर्दलीय को पर्चा भरवाया और बाद में 4 विधायकों की खरोद-फरोख्त की। सपा की साजिश सफल नहीं हुई। उन्होंने कहा कि सतीश मिश्र को इस तरह नजरअंदाज करना ब्राह्मण जाति का अपमान है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *