Sawan Shivratri 2021: कल है सावन शिवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा-विधि

हिन्दू धर्म में सावन सोमवार (Sawan Shivratri 2021) की तरह सावन शिवरात्रि का भी विशेष महत्व है। वैसे तो हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि...

सावन माह में भगवान शिव की पूजा का विशेष महत्व है। सावन का पूरा महीना भगवान भोलेनाथ (Sawan Shivratri 2021) को समर्पित होता है। इस महीने में भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है और उसके सारे संकट दूर हो जाते हैं। हिन्दू धर्म में सावन सोमवार की तरह सावन शिवरात्रि का भी विशेष महत्व है।

Sawan Shivratri 2021

वैसे तो हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि (Sawan Shivratri 2021) मनाई जाती है लेकिन सावन माह में पड़ने वाली शिवरात्रि विशेष होती है।

पृथ्वी की एक अद्भुत नगरी, जहां के लोग बाढ़ के लिए करते हैं इन पवित्र नदियों की पूजा

मान्यता है कि सावन में भगवान शिव अपने परिवार समेत धरती पर विराजते हैं। इस बार सावन माह की शिवरात्रि कल शुक्रवार यानी 6 अगस्त को मनाई जाएगी। सावन माह की शिवरात्रि पर भगवान् शंकर और माता पार्वती की विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है।

मेडल से एक कदम दूर बजरंग पूनिया : क्वार्टर फाइनल में भारतीय पहलवान ने ईरान के खिलाड़ी को किया चित

धार्मिक मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से भक्त को सारे संकटों से मुक्ति मिल जाती है और उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। (Sawan Shivratri 2021)

सावन शिवरात्रि (Sawan Shivratri 2021) मुहूर्त

सावन मास चतुर्दशी तिथि आरंभ- 06 अगस्त, शाम 06 बजकर 28 मिनट से
सावन मास चतुर्दशी तिथि समाप्त- 07 अगस्त की शाम 07 बजकर 11 मिनट पर

व्रत पारण का समय

07 अगस्त, दिन शनिवार की सुबह 05 बजकर 46 मिनट से दोपहर 03 बजकर 45 मिनट तक है। इसके बाद दान आदि का कार्य भी करना चाहिए।

महत्व (Sawan Shivratri 2021)

हिन्दू धर्म शास्त्र में सावन की शिवरात्रि (Sawan Shivratri 2021) का विशेष महत्व होता है।

इस दिन भोलेनाथ और माता पार्वती की आराधना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

धार्मिक मान्यता है कि इस दिन भगवान भोलेनाथ और माता पार्वती की विधि पूर्वक पूजा करने

से सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

Shivratri Sawan 2021: संपत शनिवार के दिन करें शनिदेव की पूजा, शिव कृपा से बन जायेंगे बिगड़े काम

जीवन में विवाह संबंधी आने वाली समस्या के निवारण के लिए इस दिन गुलाब के फूलों की माला से

शिवलिंग के साथ मां गौरी का गठबंधन करें। इस दिनकिसी भी जरूरतमंद व्यक्ति या कन्याओं को दूध

दान करना चाहिए, इससे मानसिक तनाव दूर होता है और कुंडली का चंद्रमा शुभ फल देने लगता है।

Chandra Dev की कृपा इस राशि पर बनी रहती है हमेशा, जातक होते हैं साहसी और सुंदर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *