Trending

Sciatica in Hindi: वह सब जो आप साइटिका के बारे में जानना चाहते हैं

अक्सर लोग, “साइटिका” शब्द को सामान्य पीठ दर्द समझ लेते हैं।  हालांकि साइटिका सिर्फ पीठ तक ही सीमित नहीं है।सायटिक तंत्रिका (Sciatic nerve) मानव शरीर में सबसे लंबी और चौड़ी तंत्रिका है।सायटिक तंत्रिका पीठ के निचले हिस्से से, नितंबों के माध्यम से, और पैरों के नीचे, घुटने के ठीक नीचे समाप्त होता है।

साइटिका

जाने कितनी मात्रा में पोषक तत्व का सेवन करना चाहिए

यह तंत्रिका निचले पैरों में कई मांसपेशियों को नियंत्रित करती है और पैर की त्वचा और निचले पैर के अधिकांश हिस्से को किसी दर्द का सिग्नल भेजती है।साइटिका एक स्थिति नहीं है, बल्कि साइटिक तंत्रिका से जुड़ी एक समस्या का लक्षण है।विशेषज्ञों के अनुसार, करीब 40 प्रतिशत लोगों को अपने जीवन में कम से कम एक बार जरूर साइटिका का अनुभव होता है।

इस आर्टिकल में हम साइटिका क्या होता है (What is sciatica in hindi), साइटिका के लक्षण (Sciatica symptoms in hindi), साइटिका के कारण (Sciatica causes in hindi), साइटिका के घरेलू उपचार (Home remedy for sciatica in hindi) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

साइटिका क्या है

कटिस्नायुशूल साइटिका तंत्रिका में चोट या जलन से उत्पन्न एक तंत्रिका दर्द है, जो आपके नितंब / ग्लूटियल क्षेत्र (Gluteal area) में उत्पन्न होता है।

साइटिका तंत्रिका शरीर की सबसे लंबी और सबसे मोटी (लगभग एक उंगली जैसे चौड़ी) तंत्रिका है।हालांकि, साइटिका तंत्रिका में चोट के बहुत ही कम चांसेज होते हैं लेकिन “साइटिका” शब्द का प्रयोग आमतौर पर किसी भी दर्द का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो पीठ के निचले हिस्से में उत्पन्न होता है और पैर के नीचले क्षेत्र तक फैलता है।

साइटिका के लक्षण

कटिस्नायुशूल आपके साइटिका तंत्रिका को नुकसान या चोट का परिणाम है, इसलिए तंत्रिका क्षति के अन्य लक्षण आमतौर पर दर्द के साथ मौजूद होते हैं।

अगर आपको कटिस्नायुशूल है तो आपको निम्न लक्षण हो सकते हैं।

  • पैर और नितम्ब में दर्द रहना जो हिलने-डुलने से बढ़ जाता है।
  • अचानक से पैर का क्षेत्र सुन्न हो जाना।
  • पैर के क्षेत्र में जलन रहना।
  • आपके sciatic तंत्रिका मार्ग और आपके पैरों या पैरों में कमजोरी महसूस होना, जिससे आपके पैर हिल डुल नहीं सकते।
  • पैर में हमेसा ऐसा लगना कि कोई पिन और सुई चुभो रहा है, जिससे आपके पैर की उंगलियों या पैरों में दर्दनाक झुनझुनी हो सकती है।

साइटिका कैसे होता है

कटिस्नायुशूल निम्न कारणों से हो सकता है।

  • एक हर्नियेटेड या स्लिप्ड डिस्क (Slipped disk): हर्नियेटेड या स्लिप्ड डिस्क के कारण तंत्रिका जड़ (Nerve root) पर दबाव पड़ता है। यह साइटिका का सबसे आम कारण है। यू.एस. (United States) में कटिस्नायुशूल से पीड़ित सभी लोगों में से लगभग 1% से 5% के जीवन में कभी न कभी स्लिप्ड डिस्क होती है। डिस्क रीढ़ की प्रत्येक कशेरुकाओं (Vertebrae) के बीच कुशनिंग पैड होता हैं। कशेरुकाओं के बीच किसी प्रकार के दबाव के कारण डिस्क का जेल जैसा केंद्र इसकी बाहरी दीवार में कमजोरी के कारण उभार (हर्नियेट) होता है। जब पीठ के निचले हिस्से की एक कशेरुका में हर्नियेटेड डिस्क होती है, तो यह साइटिक तंत्रिका पर दबाव डाल सकती है।
  • अपक्षयी डिस्क रोग (Degenerative disk disease): रीढ़ की कशेरुकाओं के बीच की डिस्क समय के साथ साथ घिसती चली जाती है। डिस्क के खराब होने से उनकी ऊंचाई कम हो जाती है और तंत्रिका मार्ग संकरा हो जाता है (स्पाइनल स्टेनोसिस या Spinal stenosis)।
  • स्पाइनल स्टेनोसिस: स्पाइनल स्टेनोसिस स्पाइनल कैनाल (Spinal canal) का असामान्य संकुचन के फलस्वरूप होता है। यह संकुचन रीढ़ की हड्डी और नसों के लिए उपलब्ध स्थान को कम कर देता है।
  • स्पोंडिलोलिस्थेसिस (Spondylolisthesis): देखिए, हमारे रीढ़ की हड्डी में उपस्थित कशेरुकाए एक दूसरे के ऊपर एक क्रम से व्यवस्थित रहती हैं, स्पोंडिलोलिस्थेसिस में कोई एक कशेरुका किन्ही कारणों से फिसल जाती है जिससे कि यह एक दूसरी कशेरुका के ऊपर की एक क्रम से थोड़ा आगे निकल जाती है, जिससे उस क्षेत्र की नर्व एग्जिट का मार्ग संकुचित हो जाता है।
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस(Osteoarthritis): थोड़ा पूरानी रीढ़ की हड्डियों में बोन स्पर्स (हड्डी के दांतेदार किनारे) बन सकते हैं जो पीठ के निचले हिस्से की नसों को संकुचित कर सकते हैं।
  • काठ का रीढ़ या कटिस्नायुशूल तंत्रिका को आघात।
  • लंबर स्पाइनल कैनाल (Lumbar spinal canal) में ट्यूमर हो जाता है जो साइटिका तंत्रिका को संकुचित करता है।
  • पिरिफोर्मिस सिंड्रोम (Piriformis syndrome): यह एक ऐसी स्थिति है जो तब विकसित होती है जब पिरिफोर्मिस मांसपेशी, (एक छोटी मांसपेशी जो नितंबों के गहराई में स्थित होती है), तंग हो जाती है या ऐंठन हो जाती है। यह साइटिका तंत्रिका पर दबाव डाल सकता है और साइटिका का कारण बन सकता है। पिरिफोर्मिस सिंड्रोम एक असामान्य न्यूरोमस्कुलर विकार (Neuromuscular disorder) है।
  • कौडा इक्विना सिंड्रोम (Cauda equina syndrome):यह एक दुर्लभ लेकिन गंभीर स्थिति है जो रीढ़ की हड्डी के आखिर में उपस्थित नसों के बंडल को प्रभावित करती है जिसे कौडा इक्विना कहा जाता है। यह सिंड्रोम पैर के निचले भाग ने दर्द, गुदा के आसपास सुन्नता और शौच और मूत्राशय पर नियंत्रण खो जाने का कारण बनता है।

साइटिका का घरेलू उपचार

साइटिका के कारण के आधार पर, कुछ निम्न आसन घरेलू उपचारों से कटिस्नायुशूल के कई मामले समय के साथ दूर हो जाते हैं।

  • आइस/हॉट पैक को अप्लाई करना (Applying hot/ice pack): दर्द और सूजन को कम करने के लिए सबसे पहले आइस पैक का इस्तेमाल करें। बर्फ के पैक या जमी हुई सब्जियों के बैग को तौलिये में लपेटकर दर्द से प्रभावित जगह पर 20 मिनट के लिए दिन में कई बार लगाएं। यदि आप अभी भी दर्द में हैं, तो गर्म और ठंडे पैक के बीच स्विच करें – जो भी आपको दर्द से सबसे अच्छा राहत देता है।
  • स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करना: एक योग इंस्ट्रक्टर की देख रेख में सामान्य स्ट्रेच एक्सरसाइज, कोर की मांसपेशियों को मजबूत करने वाली और एरोबिक एक्सरसाइज (Aerobic exercise) करे।

सावधान! कहीं आप पोषक तत्व कम या ज्यादा मात्रा में तो नहीं ले रहे जाने कितनी मात्रा में पोषक तत्व का सेवन करना चाहिए