समाजवादी पार्टी के गठबंधन में सीट विवाद शुरू, इस दल ने कर दी उम्मीदवार की घोषणा

समाजवादी पार्टी के गठबंधन में सीट बंटवारे के मुद्दे पर मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं

लखनऊ, 24 जनवरी| समाजवादी पार्टी के गठबंधन में सीट बंटवारे के मुद्दे पर मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। आपको बता दें कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) की सहयोगी राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) जहां कम से कम आठ विधानसभा क्षेत्रों में सीट आवंटन को लेकर परेशानी का सामना कर रही है, वहीं एक अन्य सहयोगी ने अब सपा के लिए पिच पर सवाल खड़ा कर दिया है।

Samajwadi Party - Akhilesh Yadav

 

इसके साथ ही बता दें कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा यूपी चुनाव के लिए हरदोई में संडीला विधानसभा क्षेत्र से रीता सिंह को पार्टी के उम्मीदवार के रूप में नामित करने के एक दिन बाद, उनके गठबंधन सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) ने अब उसी सीट के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा की है।

हम इसे सुलझा लेंगे

वहीँ बताते चले कि एक प्रेस बयान में, एसबीएसपी ने अपने यूपी अध्यक्ष ‘सुनील अर्कवंशी को यूपी चुनाव के लिए हरदोई में संडीला सीट पर समाजवादी पार्टी-एसबीएसपी उम्मीदवार’ के रूप में नामित किया। समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा, “मुझे एसबीएसपी द्वारा सीट की घोषणा के बारे में जानकारी नहीं है या यदि कोई भ्रम है, तो हम इसे सुलझा लेंगे।”

हालांकि, एसबीएसपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पीयूष मिश्रा ने कहा, “कोई भ्रम नहीं हो सकता है। एसपी ने संडीला सीट एसबीएसपी को आवंटित की थी। वास्तव में, अखिलेश ने 27 नवंबर को इस निर्वाचन क्षेत्र में हमारे लिए एक रैली भी की थी।” अखिलेश यादव ने शनिवार को संडीला से समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक की पत्नी रीता सिंह को पार्टी में शामिल करने की घोषणा की थी.

2012 में सपा के टिकट पर संडीला सीट से जीतने वाले दिवंगत राजा महावीर सिंह की पत्नी रीता सिंह लखनऊ के मशहूर भार्गव परिवार से हैं. वह एक स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस नेता स्वर्गीय रानी रामकुमार भार्गव की बेटी हैं। रीता सिंह के भाई लव भार्गव पहले समाजवादी पार्टी के प्रदेश महासचिव थे। लव भार्गव ने 1993 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा उम्मीदवार के रूप में लखनऊ पूर्व सीट से चुनाव लड़ा था।