महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सीएम योगी ने उठाया बड़ा कदम, अब UP के हर थाने में होगा ये

आधी आबादी की सुरक्षा को उप्र के हर थाने में की जाएगी महिला हेल्प डेस्क की स्थापना

महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अहम निर्णय किया है। उन्होंने कहा है कि महिला सुरक्षा के दृष्टिगत हर थाने में एक महिला हेल्प डेस्क की स्थापना की जाए। उन्होंने गुरुवार को शासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में यह निर्देश दिए।

yogi

इसके साथ ही आधी आबादी की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा लागू किया जा रहा ‘मिशन शक्ति’ अभियान शारदीय नवरात्रि से लेकर बासंतिक नवरात्रि तक निरन्तर चलाया जाएगा। महिला एवं बालिका सुरक्षा के दृष्टिगत यह राज्य सरकार का एक विशेष अभियान है। मुख्यमंत्री ने सभी जिलाधिकारियों को अपने-अपने जनपदों में इस अभियान को प्रभावी ढंग से लागू और माॅनिटरिंग करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारी कार्यों की समीक्षा भी करें।

दरअसल हाथरस प्रकरण में हुई सियासत के बाद सरकार महिला सुरक्षा के मुद्दे पर बेहद गम्भीरता बरत रही है। मुख्यमंत्री इससे पहले महिलाओं व बालिकाओं से जुड़े मामलों की जिला स्तर पर प्रतिदिन समीक्षा किए जाने के अलावा वरिष्ठ अधिकारियों के स्तर पर साप्ताहिक, पाक्षिक व मासिक समीक्षा करने के निर्देश दे चुके हैं उन्होंने एंटी रोमियो स्क्वॉड की सक्रियता को और बढ़ाने को भी कहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि महिला व बाल अपराध की मॉनिटरिंग के लिए हर जिले में मॉनिटरिंग कमेटी की नियमित बैठकें की जाएं। पॉक्सो व महिला अपराध संबंधी वादों के निस्तारण के लिए तेजी से कदम बढ़ाए जाएं। इसमें शिथिलता व लापरवाही की दशा में अभियोजन अधिकारी की जवाबदेही भी तय की जाए।

‘मिशन शक्ति’ अभियान के तहत महिला सुरक्षा व सम्मान के बारे में सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों के जरिए व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाएगा। प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च तथा प्राविधिक शिक्षा सहित सभी शिक्षण संस्थानों में भी व्यापक स्तर पर छात्र-छात्राओं को महिला सुरक्षा व सम्मान के प्रति जागरूक किया जाएगा। मिशन शक्ति से जुड़े ऑनलाइन कार्यक्रम भी किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के तहत अभियान के दौरान लैंगिक आधारित संवेदीकरण, प्रशिक्षण, कॉरपोरेट एक्टिविटी, ध्वनि संदेश, साक्षात्कार, दुर्गा पूजा व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम के जरिए लोगों में लोगों में जागरूकता पैदा की जाएगी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *