Shahjahanpur : अफजान हत्याकाण्ड का खुलासा : पुलिस मुठभेड़ में पांच हत्यारोपी गिरफ्तार

थाना रोजा क्षेत्र में हुई अफजान हत्याकाण्ड का पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस व एसओजी की संयुक्त टीम ने पुलिस मुठभेड में पांच हत्यारोपितो को किया गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे से पुलिस को तीन अवैध हथियार व कारतूस बरामद हुए है।

रामनिवास शर्मा मैथिल

शाहजहांपुर । थाना रोजा क्षेत्र में हुई अफजान हत्याकाण्ड का पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस व एसओजी की संयुक्त टीम ने पुलिस मुठभेड में पांच हत्यारोपितो को किया गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे से पुलिस को तीन अवैध हथियार व कारतूस बरामद हुए है।

Afzan assassination revealed

12 फरवरी की रात हुई थी हत्या

पुलिस अधीक्षक एस आनंद ने बताया की थाना रामचन्द्र मिशन क्षेत्र के मोहल्ला गढीगाडीपुरा अफजान(18) की बीते 12 फरवरी की रात को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।अफजान का शव दूसरे दिन थाना रोजा क्षेत्र में खनौत नदी किनारे एक खेत से बरामद हुए था।उन्होंने खुद घटनास्थल का मौका मुआयना किया और थाना रोजा प्रभारी निरीक्षक दिनेश कुमार शर्मा तथा एसओजी प्रभारी रोहित सिंह की संयुक्त टीम गठित कर घटना में संलिप्त अपराधियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश टीम को दिए गए थे।

ये आरोपी गिरफ्तार

श्री आनंद ने बताया कि मंगलवार को टीम ने घटना में संलिप्त पांच ओपियो को मुठभेड़ के दौरान सल्ललिया गांव को जाने वाले रास्ते की मोड से गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए अरोपित थाना रामचन्द्र मिशन क्षेत्र के मोहल्ला तारीन गाडीपुरा निवासी रविप्रकाश, गौरव कुमार राठौर, सचिन कुमार,अजय कनौजिया और ग्राम बाडीगांव निवासी सोनू उर्फ भूरे है।पुलिस को ओपियो के कब्जे से तीन अवैध हथियार व कारतूस बरामद हुए है।

पैसा बना हत्या का कारण

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पांचो अरोपी नेपाल भागने की फिराक में थे।पूछताछ में आरोपियो ने पुलिस को बताया की पिछले आईपीएल मैच में अफजान व उन सभी लोगो ने रुपये लगाया गया था। अफजान ने एक लाख सत्तर हजार रुपये भी जीत लिये। अफजान बार-बार आरोपियो से रुपये मांग रहा था और न देने पर झगडे की बात करता था। रुपये न देने पड़े इस लिए सोची समझी साजिश के तहत अफजान को फोन कर खन्नौत नदी के किनारे बुलाया। जहां उसकी हत्या कर शव को नदी के किनारे फेक दिया।

पुलिस टीम को पच्चीस हजार का इनाम

पुलिस अधीक्षक एस आनंद ने कहा कि मामला काफी पेंचीदा था। खुलासे के लिए रोजा प्रभारी निरीक्षक दिनेश कुमार शर्मा तथा एसओजी प्रभारी रोहित सिंह की संयुक्त टीम काम कर रही थी। जिसने बखूबी काम को अंजाम दिया और नेपाल भागने से पहले ही आरोपियो को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अधीक्षक एस आनंद द्वारा टीम को पच्चीस हजार का पुरस्कार दिया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *