दुश्मन देशों की पल-पल की खबर देगा शिपबोर्न, हिन्द महासागर में बढ़ी भारत की निगरानी क्षमता

बल टेंडर के जरिए खरीदे जाएंगे 10 शिपबोर्न ड्रोन​​

अ​​मेरिका से लीज पर दो सी-गार्जियन ‘अनआर्म्ड’ प्रीडेटर ड्रोन लेने के बाद अब इंडियन नेवी हिन्द महासागर क्षेत्र में अपनी निगरानी क्षमताओं को बढ़ाना चाहती है। इसके लिए तत्काल 10 शिपबोर्न ड्रोन खरीदने जा रही है, जिसके लिए उसे मोदी सरकार की मंजूरी मिल गई है। 1300 करोड़ की लागत से यह ड्रोन ग्लोबल टेंडर के जरिए खरीदे जाएंगे। इसके बाद नेवी जल्द ही इन्हें निगरानी और टोही गतिविधियों के लिए अपने बड़े युद्धपोतों पर तैनात करेगी।

INDIAN NAVY-Shipborne drone- Government approval

हाल ही में रक्षा मंत्रालय ने रक्षा खरीद पॉलिसी-2020 में बदलाव करके तीनों सेनाओं के लिए लीज पर हथियार लेने का प्रावधान किया था। उसी के तहत नेवी ने अमेरिका से दो सी-गार्जियन ‘अनआर्म्ड’ ड्रोन एक साल के लिए लीज पर लिये हैं। अब तीनों सेनाएं अमेरिका से ऐसे 18 और ड्रोन लेने की तैयारी कर रही हैं।

लीज एग्रीमेंट के तहत अमेरिकी कंपनी केवल रखरखाव और तकनीकी मुद्दों में नेवी की मदद करेगी लेकिन ड्रोन्स के ऑपरेशन्स पूरी तरह से नेवी के पास होंगे। नवम्बर के दूसरे सप्ताह में भारत पहुंचे ड्रोन्स को नेवी के तमिलनाडु स्थित आईएनएस राजाली बेस पर तैनात किया गया है। इसी बेस पर अमेरिका से लिए गए नेवी के टोही विमान पी-8आई भी तैनात हैं।

नवम्बर में दिल्ली में भारत और अमेरिका की टू-प्लस-टू मीटिंग के दौरान दोनों देशों ने बीईसीए यानी बेसिक एक्सचेंज एंड कॉपरेशन एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए थे, जिसका मकसद अमेरिका से ड्रोन लेना ही था। अमेरिका से दो सी-गार्जियन ‘अनआर्म्ड’ ड्रोन लीज पर देने के बाद भारतीय नेवी ने हिन्द महासागर क्षेत्र में अपनी निगरानी क्षमताओं को बढ़ाने के लिए तत्काल 10 शिपबोर्न ड्रोन खरीदने के लिए रक्षा मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा था, जिसे हाल ही में सरकार ने स्वीकृति दे दी है। नेवी ने यह प्रस्ताव फास्ट ट्रैक मोड में रखा था, इसीलिए मंजूरी जल्दी मिली है।

नेवी की योजनाओं के अनुसार इन शिपबोर्न ड्रोन्स को बड़े आकार के युद्धपोतों पर तैनात किया जाएगा, जिससे हिन्द महासागर के भारतीय जल क्षेत्र में चीनी और अन्य विरोधियों की गतिविधियों का पता लगाने में मदद मिलेगी। भारतीय नेवी अमेरिका से और सी गार्डियन ड्रोन का अधिग्रहण करने के लिए अलग से एक परियोजना पर काम कर रही है, जिससे मेडागास्कर से लेकर मलक्का स्ट्रेट तक निगरानी का विस्तार हो सकेगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *