एलएसी पर हालात तनावपूर्ण : CDS रावत ने चीन को दी अब तक की सबसे बड़ी चेतावनी, सेना…

इस बीच सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने पूर्वी लद्दाख ​के हालात तनावपूर्ण ​बताते हुए ​कहा​ कि ​हमारा रुख स्पष्ट है कि हम वास्तविक नियंत्रण रेखा में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे।​ 

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच ​शुक्रवार को सुबह ​साढ़े नौ बजे एलएसी के पास भारतीय क्षेत्र की तरफ चुशूल में ​8वें दौर की सैन्य वार्ता ​शुरू हुई। ​इस बीच सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने पूर्वी लद्दाख ​के हालात तनावपूर्ण ​बताते हुए ​कहा​ कि ​हमारा रुख स्पष्ट है कि हम वास्तविक नियंत्रण रेखा में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे।​ 
CDS Bipin Rawat
लद्दाख के अग्रिम क्षेत्रों में बर्फीली ठंड शुरू होने के बावजूद दोनों देशों के​​ ​सैनिक एलएसी पर तैनात हैं लेकिन इस ​बैठक में​ दोनों देशों के बीच रिश्तोंं पर जमी बर्फ पिघलने की उम्मीद है। ​​ 

भारत और चीन के बीच 8वें दौर की सैन्य वार्ता शुरू

​सेना की ​14वीं कोर के नए कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन आठवें दौर की वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व​ कर​ रहे हैं। दोनों देशों के बीच 21 सितम्बर को ​हुई ​छठे दौर की वार्ता मेंदोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच मॉस्को वार्ता में तय हुए पांच बिन्दुओं के आधार पर एक दूसरे से ‘रोडमैप’ मांगा गया​ था​​​ 12 अक्टूबर को हुई सातवें दौर की सैन्य वार्ता ‘फिर मिलेंगे’ के वादे के साथ खत्म हुई थी। इसी बैठक में चीन और भारत ने एक दूसरे को टॉप सीक्रेट ‘रोडमैप’ सौं​पे थे, जिस पर दोनों देशों के शीर्ष नेतृत्व ने मंथन किया है।​ ​आठवें दौर की ​​सैन्य वार्ता में इसी पर फोकस किये जाने की संभावना है।

​​​लद्दाख में अब भी हालात तनावपूर्ण बने

सीडीएस जनरल बिपिन रावत​ ​के मुताबिक पूर्वी लद्दाख में अब भी हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। ​उन्होंने सैन्य वार्ता शुरू होने के बाद ​ शुक्रवार को कहा कि चीन ने ​कभी ​उम्‍मीद नहीं की थी​ कि उसके दुस्‍साहस ​का जवाब भारत की तरफ से इतनी सख्ती के साथ मिलेगा​ यही वजह है कि चीन की पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) लद्दाख में भारतीय बलों की मजबूत प्रतिक्रिया के कारण अप्रत्याशित परिणाम का सामना कर रही है। रावत ने कहा​ कि ​हमारा रुख स्पष्ट है कि हम वास्तविक नियंत्रण रेखा में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे।​​ रावत ने ​यह भी ​कहा कि ​चीन ​सीमा पर झड़पों और बिना उकसावे के सैन्य कारवाई के बड़े संघर्ष में तब्‍दील होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।
लद्दाख की पहाड़ियों को सेना ने तीन हिस्सों में बांटा 
​इस बीच ​लद्दाख की बर्फीली पहाड़ियों पर उच्च ऊंचाई​​ पर भारत ने अभ्यस्त सैनिकों की तैनाती की है। सेना ने इन ऊंची ऊंचाइयों को भी तीन हिस्सों में बांटा है। अगर सैनिक को 9 हजार से 12 हजार फीट की ऊंचाई पर तैनात किया जाता है तो इसके लिए 6 दिन का अधिकतम तैनाती समय होता है। इसे स्टेज वन कहते हैं। 12 हजार से 15 हजार फीट की ऊंचाई के लिए स्टेज टू होता है, जिसमें 10 दिन का अधिकतम तैनाती समय होता है।
इसी तरह स्टेज थ्री के लिए 4 अतिरिक्त दिन यानी कुल 14 दिन होते हैं। यह 15 हजार फीट से ज्यादा ऊंचाई के लिए होता है। ऊंचाई के हिसाब से क्लोदिंग और इक्विपमेंट भी बदल जाते हैं। इसीलिए सेना ने इन्हीं मानकों के अनुसार उच्चतम ऊंचाई पर तैनात सैनिकों की रोटेशनल तैनाती शुरू की है।

पाकिस्तान पर बोले

जम्मू- कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रहे घुस्पैठ के मामलों पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा कि पाकिस्तान ने सशस्त्र इस्लामी विद्रोह और आतंकवाद का केंद्र बना हुआ है। उन्होंने पाक पर हमला बोलते हुए कहा कि- पिछले तीन दशकों से पाकिस्तान की सेना और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई जम्मू-कश्मीर में प्रॉक्सी वॉर छेड़ रखी है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अब तेजी से सोशल मीडिया पर भारत विरोधी बयानबाजी शुरू करने और भारत के भीतर सामाजिक असहमति पैदा करने के लिए झूठी सांप्रदायिक बयानबाजी का प्रचार करके गैर-गतिज साधनों का सहारा ले रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *