चीन और अमेरिका में बढ़ा तनाव, दक्षिण सागर में अमेरिकी परमाणु पनडुब्बी पर हमला

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के बीच तनाव गहराता जा रहा है। एक तरफ ताइवान मामले को लेकर चीन और अमेरिका आक्रामक रूप से...

वाशिंगटन। दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के बीच तनाव गहराता जा रहा है। एक तरफ ताइवान मामले को लेकर चीन और अमेरिका आक्रामक रूप से आमने-सामने आ चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ दक्षिण चीन सागर पर अमेरिका की परमाणु पनडुब्बी पर हमला हुआ है। हालांकि, यह हमला किस चीज से किया गया और किसने किया इसकी कोई जानकारी अभी सामने नहीं आ सकी। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि उनकी परमाणु पनडुब्बी में किसी अज्ञात चीज ने टक्कर मारी है। हालाँकि इस हमले में किसी भी तरह का नुकसान नहीं हुआ है और पनडुब्बी भी ऑपरेशनल स्थिति में बनी हुई है।

US submarine

पांच दिन पहले हुआ था हमला

यूएस पैसिफिक फ्लीट की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि यूएसएस कनेक्टिकट नाम की सीवॉल्फ-क्लास परमाणु पनडुब्बी पर पांच दिन पहले हमला हुआ था लेकिन संचालन सुरक्षा बनाए रखने के मकसद से इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई थी। बयान में यह भी कहा गया है कि हमले का असल ऑब्जेक्ट क्या था? और किस चीज से टक्कर हुई, अभी ये पता नहीं चल पाया है। इसकी जांच की जा रही है।

दो जवान घायल

बयान में बताया गया है कि इस हमले में दो जवानों को चोट लगी है। वहीं अन्य नौ लोग मामूली रूप से घायल हुए हैं। अमेरिका का कहना है कि यह हमला उस समय किया गया जब अमेरिकी पनडुब्बी अपने रूटीन ऑपरेशन पर थी। हमले के बाद पनडुब्बी को जांच के लिए गुआम बंदरगाह की तरफ भेज दिया गया है।

चीन का कानून, बिना इजाजत घुसे तो होगा… 

गौरतलब है कि चीन ने दक्षिण चीन सागर के लिए पिछले महीने नया कानून बनाया था। इस कानून के मुताबिक अगर चीन की इजाजत के बिना कोई भी उसके जलक्षेत्र में घुसेगा तो उस पर सीधे हमला कर दिया जाएगा।चीन के इस कानून की वजह से अमेरिकी पनडुब्बी पर हुए हमले को चीन की प्रतिक्रिया माना जा रहा है। हालांकि, अमेरिका सीधे तौर पर इस हमले को नकार रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *