निहत्थे परिवार को घेरकर 50 हथियारबंद लोगों ने बरसाई गोलियां, मिनट भर में गिरा दी 6 लाशें

बिहार का नालन्दा जिला बुधवार को सामूहिक नरसंहार का गवाह बना। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले में जमीनी विवाद में खून की होली खेली गई।

बिहारशरीफ। बिहार का नालन्दा जिला बुधवार को सामूहिक नरसंहार का गवाह बना। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले में जमीनी विवाद में खून की होली खेली गई। छबीलापुर थाना क्षेत्र के लोदीपुर गांव में अंधाधुंध गोलीबारी कर दिनदहाड़े छह लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। गोलीबारी के दौरान 5 लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई, जबकि तीन बुरी तरह से घायल हो गए। घायलों में से एक की मौत इलाज के दौरान हुई। मृतकों में एक ही परिवार के दो घरों के 6 लोग शामिल हैं।

gun

घटना का कारण करीब 10 वर्षों से आपसी भूमि विवाद बताया जा रहा है। 50 बीघा जमीन के बंटवारे को लेकर विवाद चल रहा था और यह मामला कोर्ट में था। इस संबंध में दोनों पक्षों से बीते 17 अप्रैल 2021 को वर्तमान थाना अध्यक्ष विनोद कुमार की मौजूदगी में बॉन्ड करवाकर कोर्ट से विवाद हल होने तक भूमि की जुताई पर रोक लगा दी गई थी।

200 राउंड से अधिक गोलियां चलीं

आरोप है कि बुधवार सुबह करीब 9 बजे महेंद्र यादव अपने परिवार और बाहरी लोगों के साथ मिलकर जबरन खेत की जुताई करने लगे। करीब चार बीघा से अधिक खेत को जुताई कर दी गई। इसके बाद खेत जुताई की बजाय इलाका गोलियों की आवाज से थर्रा उठा। जानकारी के मुताबिक 200 राउंड से अधिक गोलियां चलीं और देखते ही देखते गांव में चीख-पुकार मच गई।

मृतकों में एक ही परिवार के लोग

नालंदा में हुई इस घटना के सभी मृतक यादव बिरादरी से हैं। मृतकों में एक ही परिवार के लोग हैं। 60 वर्षीय यदुनंदन यादव एवं उनके दो पुत्र 30 वर्षीय पिंटू यादव तथा 25 वर्षीय मधेश यादव की हत्या कर दी गई। इसी परिवार के दूसरे घर के स्वर्गीय परशुराम यादव के दो पुत्र 50 वर्षीय धीरेन्द्र यादव एवं 40 वर्षीय शिवल यादव को भी मौत के घाट उतार दिया गया। परिवार के ही एक अन्य सदस्य बुरी तरह से घायल 45 वर्षीय वीरेंद्र प्रभाकर उर्फ बिंदा यादव पिता रामरूप यादव की मौत इलाज के दौरान हो गई। मृतक वीरेंद्र प्रभाकर उर्फ बिंदा के पुत्र अतुल प्रभाकर एवं इंदु यादव का जख्मी हालत में इलाज चल रहा है।

स्थानीय थाना प्रभारी की भूमिका भी काफी संदिग्ध

बताया जाता है कि इस कांड में स्थानीय थाना प्रभारी की भूमिका भी काफी संदिग्ध है। मृतक यदुनंदन के पुत्र कृष्णदेव प्रसाद बताते हैं कि सुबह 9 बजे के आसपास जैसे ही महेंद्र यादव एवं उनका परिवार खेत जुताई करने लगे तो छबीलापुर थाना प्रभारी विनोद कुमार को इसकी सूचना दी गई। इसपर थाना प्रभारी ने कहा कि जहां जाना है जाओ, 24 घंटे बाद मामला को देखेंगे। प्रशासन का सहयोग न मिलने पर थक-हारकर 12 बजे के बाद खेत जुताई कर रहे लोगों को पीड़ित परिवारवालों ने मना किया तो आरोपी पक्ष ने घेरकर गोलियों की बौछार कर दी।

विरोध करने वाले परिवार के 8 लोगों को गोली लगी, जिनमें 6 की मौत

जबरन खेत जुताई का विरोध करने वाले परिवार के 8 लोगों को गोली लगी, जिनमें 6 की मौत हो गई। करीब 50 की संख्या में हथियारबंद लोग नरसंहार की तर्ज पर घटना को अंजाम दिया। जख्मी के अनुसार गांव के ही गुडी यादव, इंदु यादव, विनय यादव, लालू यादव, नीतीश यादव, छोटी यादव, महेंद्र यादव, रौशन यादव सहित अन्य बाहर के लोगों ने गोलीबारी की घटना को अंजाम दिया। बताया जाता है कि हमलावरों के पास कई तरह के हथियार थे। घर में छिपे दो आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

हत्याकांड के बाद घटनास्थल पर पहुंचे एसपी हरि प्रसाद एस एवं डीएसपी सोमनाथ प्रसाद, एसडीओ संजय कुमार ने मामले की जांच शुरू कर दी है। घटनास्थल से कुछ ही दूरी से पुलिस ने दो बदमाशों को हिरासत में ले लिया है। दबोचे गए आरोपियों में लोदीपुर निवासी महेंद्र यादव एवं उनके रिश्तेदार (गया जिला के बथानी निवासी) शामिल हैं।

एसपी ने घटना की जानकारी देते बताया कि नालंदा जिला के छबीलापुर स्थित लोदीपुर गांव में जमीनी विवाद में छह लोगों की गोली मारकर हत्या की गई है। एसपी ने कहा कि घटना में जो भी लोग शामिल हैं, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। मृतकों के परिजनों से भी जानकारी ली जा रही है कि कौन-कौन लोग घटना में शामिल थे और कहां शिकायत की गई थी। शिकायत करने के बाद कौन-से पुलिस अधिकारी समय पर नहीं पहुंचे। तमाम बिंदुओं पर जांच की जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *