स्वामी अग्निवेश का दिल्ली के अस्पताल में हार्ट अटैक से निधन, जानें उनके बारे में..

आर्य समाज के जाने-माने नेता, स्वामी अग्निवेश का आज नई दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज में हार्ट अटैक से निधन हो गया।

दिल्ली 11सितम्बर, यूपी किरण। आर्य समाज के जाने-माने नेता, स्वामी अग्निवेश का आज नई दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज में हार्ट अटैक से निधन हो गया। वह लिवर सिरोसिस से पीड़ित भी थे और गंभीर रूप से बीमार थे। तथा मल्टीपल फेल्योर के कारण मंगलवार से वो वेंटिलेटर सपोर्ट पर भी थे।


आपको भता दें कि आर्य समाज के नेता, स्वामी अग्निवेश ने आज नई दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज में अंतिम सांस ली. वह लीवर सिरोसिस से पीड़ित थे और गंभीर रूप से बीमार थे. मल्टीपल फेल्योर के कारण मंगलवार से वो वेंटिलेटर सपोर्ट पर भी थे । शुक्रवार 11 सितंबर को उनकी हालत और बिगड़ गई और शाम 6:00 बजे कार्डियक अरेस्ट भी आया। जिसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की तमाम कोशिश की, लेकिन शाम 6:30 बजे उनका निधन हो गया। यह जानकारी आईएलबीएस की तरफ से जारी की गई है।
आपको बता दें कि स्वामी अग्निवेश सदैव समाजिक मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखते थे। उन्होंने एक बार रियलिटी शो बिग बॉस में भी हिस्सा लिया था जिसके दौरान बिग बॉस के सेट पर  उनका काफी मजाक बना था। ऐसा पहली हार था जब बिग बॉस के सेट पर  कोई संन्यासी नजर आया था। स्वामी अग्निवेश ने साल 2011 में अन्ना हजारे की अगुवाई वाले भ्रष्टाचार-विरोधी आंदोलन में भी हिस्सा लिया था. हालांकि बाद में वो आंदोलन से दूर हो गए थे।

जानें कौन थे स्वामी अग्निवेश
स्वामी अग्निवेश का जन्म 21 सितंबर 1939 आंध्र प्रदश के श्रीकाकुलम में हुआ था। जब वह चार साल के थे तो उनके पिता की मौत हो गई थी। लॉ और कॉमर्स में डिग्री लेने के बाद स्वामी अग्निवेश कोलकाता के प्रसिद्ध सेंट जेवियर्स कॉलेज में मैनेजमेंट के लेक्‍चरर रहे। इसके साथ ही सब्‍यसाची मुखर्जी के अंडर उन्होंने वकालत भी की. स्वामी अग्निवेश आर्य समाज में शामिल होने 1968 में हरियाणा गए थे. 25 मार्च 1970 को स्वामी अग्निवेश ने संन्यास ले लिया था।

वहीं 2011 में छत्तीसगढ़ की सरकार ने सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश पर निगरानी रखने के आदेश जारी किए थे। गृह मंत्री ननकीराम कंवर के जारी आदेश के अनुसार आरोप था कि बिनायक सेन के साथ-साथ स्वामी अग्निवेश भी नक्सलियों  के शहरी नेटवर्क का हिस्सा हैं।
आपको बता दें कि नक्सली  प्रवक्ता आज़ाद की पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने पर अग्न‍िवेश ने सरकार पर सवाल भी उठाए थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *