यूपी के इन तीन शहरों में कोरोना से हालात हुए बेकाबू, जारी हुई ये चेतावनी

अपर मुख्य सचिव, सूचना डॉ. नवनीत सहगल के मुताबिक दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों जैसे मेरठ मंडल, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद और कुछ सीमा तक लखनऊ में संक्रमण धीरे-धीरे फिर से बढ़ा है। संक्रमण की पहचान जल्दी करने के लिए टेस्टिंग को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। 

लखनऊ। प्रदेश में कोराना का ग्राफ नीचे गिरने का बाद कुछ जनपदों में फिर नए मामलों में तेजी देखने को मिल रही है। खासतौर से दिल्ली से सटे जनपदों में इसका असर ज्यादा दिखायी दे रहा है।
Corona in the country
अपर मुख्य सचिव, सूचना डॉ. नवनीत सहगल के मुताबिक दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों जैसे मेरठ मंडल, गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद और कुछ सीमा तक लखनऊ में संक्रमण धीरे-धीरे फिर से बढ़ा है। संक्रमण की पहचान जल्दी करने के लिए टेस्टिंग को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।
प्रदेश के प्रमुख सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य आलोक कुमार ने सोमवार को बताया कि पिछले चौबीस घंटे में कोरोना संक्रमण के 1,546 नए मामले सामने आए हैं। वहीं इसी दौरान 1,889 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किए गए। इस समय राज्य में 22,603 सक्रिय मामले हैं। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक कुल 4,82,844 मरीज कोरोना से ठीक होकर पूर्ण उपचारित हो चुके हैं।
राज्य में कल एक दिन में कुल 73,207 सैम्पल की जांच की गयी। इसमें 35,956 आरटीपीसीआर टेस्ट किए गए। प्रदेश में अब तक कुल 1,71,22,647 सैम्पल की जांच की गयी है। इसमें आरटीपीसीआर के जरिए 69,66763 कोविड-19 की टेस्टिंग की गयी है। ट्रूनेट मशीन से 3,59,348 तथा ऐन्टिजन टेस्टिंग से 97,96,536 जांच की गयी। वहीं प्रदेश में कोविड-19 रिकवरी दर 94.15 प्रतिशत हो गई है। राज्य में इस समय 10,270 लोग होम आइसोलशन में हैं।

सतर्कता बरतने की बेहद जरूरत

प्रमुख सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने बताया कि त्योहारों की वजह से कोरोना जांच में कुछ कमी आई है। हालांकि स्थिति नियंत्रण में हैं। उन्होंने कहा कि संक्रमण को लेकर लोगों को अभी भी सतर्कता बरतने की बेहद जरूरत है। छठ पर्व के दौरान नदी के तट पर लोगों की भीड़ बढ़ेगी। लोग एक दूसरे के ज्यादा सम्पर्क में आएंगे। इसलिए ऐसे में पूरी तरह से सावधानी बरतें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *