रोजाना ज़बान को साफ करने से होते है कई प्रकार के फायदें, जाने जरूर

सभी लोग रोज़ाना दांतों को ब्रश तो करते हैं, लेकिन सबसे ज़रूरी स्टेप 'ज़बान को साफ करने' को नज़रअंदाज़ करते हैं।

सभी लोग रोज़ाना दांतों को ब्रश तो करते हैं, लेकिन सबसे ज़रूरी स्टेप ‘ज़बान को साफ करने’ को नज़रअंदाज़ करते हैं। सौभाग्य से, ऐसा करने से आपकी जीभ में कैविटी नहीं होगी, लेकिन यह निश्चित रूप से सांसों की दुर्गंध और मुंह की बीमारियों का मूल कारण होता है। ज़बान को साफ करना बेहद ज़रूरी होता है, ताकि बैक्टीरिया के साथ दांतों और ज़बान में लगा खाना और डेड सेल्स दूर हों।

इसका उद्देश्य जीभ की सतह से बैक्टीरिया, मलबे, कवक, मृत कोशिकाओं और अन्य विषाक्त पदार्थों जैसे गंध पैदा करने वाले पदार्थों को निकालना है। यह प्रक्रिया न केवल मौखिक स्वास्थ्य में सुधार करती है, बल्कि आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को भी बढ़ाती है।

1. बेहतर स्वाद आता है

दिन में दो बार जीभ को खुरचने से आपके स्वाद में सुधार हो सकता है। यह आपके तालू को ताजा रखते हुए मृत कोशिकाओं और अन्य अवांछित पदार्थों को हटाता है, जिससे आप कड़वा, मीठा, नमकीन और खट्टा संवेदनाओं के बीच बेहतर अंतर कर सकते हैं।

2. बैक्टीरिया दूर होते हैं

बैक्टीरिया मुंह से जुड़े आपकी कई स्वास्थ्य समस्याओं जैसे दांतों की सड़न और सांसों की दुर्गंध का कारण होता है। अपनी जीभ को खुरचने से आपके मुंह में अच्छे बैक्टीरिया का सही संतुलन बनाए रखने में मदद मिल सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह आपके मुंह में जमा हुए भोजन के मलबे और मृत कोशिकाओं को साफ करता है।

3. बेहतर पाचन

खाने का पाचन आपके मुंह से शुरू होता है। लार में मौजूद एंज़ाइम आंत द्वारा आसानी से पचने के लिए भोजन को तोड़ते हैं। पाचन के लिए जीभ को खुरचना इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि यह खाने को पचाने के लिए आवश्यक एंज़ाइमों को सक्रिय करने में मदद करता है।

4. अंगों को एक्टीवेट करता है

रोज़ाना टंग स्क्रैपर का उपयोग करने से शरीर को रात भर आपके मुंह में जमा हुए विषाक्त पदार्थों को ख़त्म करने में मदद मिलती है। यह आंतरिक अंगों को भी धीरे से सक्रिय और जागृत करता है, यह सुनिश्चित करता है कि आप अपने दिन की शुरुआत करते हुए ताज़ा और स्वच्छ महसूस करें।

5. सांसों की दुर्गंध को दूर करता है

आपकी जीभ पर मृत कोशिकाएं, बैक्टीरिया या मलबा सांसों की दुर्गंध का कारण बन सकते हैं। 2005 के एक अध्ययन के अनुसार, यह पाया गया कि सात दिनों के लिए दिन में दो बार जीभ साफ करने से मुंह में म्यूटन्स स्ट्रेप्टोकोकी और लैक्टोबैसिली बैक्टीरिया कम हो जाता है। यह बैक्टीरिया सांसों की दुर्गंध और दांतों की सड़न का कारण माने जाते हैं।

6. इम्यूनिटी को मिलता है बढ़ावा

जीभ को साफ करना एक ऐसी विधि है, जो मुंह की स्वच्छता में सुधार करती है, जिससे प्रतिरक्षा प्रणाली भी प्रभावित होती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *