हिंदुस्तान में कोई गम नहीं था, बस दिल पाकिस्तान में लगा था

नई दिल्ली॥ कोविड-19 महामारी के चलते भारत के कई प्रदेशों में फंसे 198 पाकिस्तानी वीरवार सुबह इंटरनेशनल अटारी सड़क सीमा से अपने वतन रवाना हो गए। इनमें हिंदुस्तानी मूल की पाकिस्तान में ब्याही कई महिलाएं भी शामिल थीं।

upknn

अटारी बॉर्डर पर तैनात प्रोटोकॉल अधिकारी अरुण पाल सिंह के अनुसार दोपहर तक 60 से अधिक पाकिस्तानी सीमा पार कर चुके थे। पाकिस्तान जाने वाले सभी नागरिकों की मेडिकल जांच उन शहरों में हो चुकी है, जहां वह रुके थे।

अटारी सड़क बॉर्डर पर स्थित आईसीपी में सभी पाकिस्तानी लोगों का कोविड-19 टेस्ट किया गया। कस्टम और इमीग्रेशन अफसरों ने इनके दस्तावेजों व सामान की गहन जांच की। पाकिस्तान वाघा बॉर्डर में प्रवेश से पहले बीएसएफ के जवानों ने उनके दस्तावेजों की जांच की।

पाकिस्तान लौट रही सलमा चौधरी ने बताया कि वह लगभग 7 माह बाद अपने घर जा रही है। घर पर उसका सात साल का बेटा और पति इंतजार कर रहे हैं। सहारनपुर की रहने वाली सलमा का विवाह नौ वर्ष पहले कराची में हुआ था। लॉकडाउन लागू होने के 15 दिन पहले वह अपने मायके सहारनपुर आई थी। सलमा ने बताया कि वह अपने बेटे से मिलने की लिए उत्साहित है।

भारतीय विदेश मंत्रालय का शुक्रिया जिन्होंने कोविड-19 के दौरान बेटियों को अपने ससुराल जाने के लिए मंजूरी दी है। सलमा कहती हैं कि हालांकि मायके में मुझे कोई परेशानी नहीं थी। वह अपने मां-बाप व भाई बहनों के साथ थी, मगर 7 वर्ष के बेटे को मिलने की चाहत उसे रुला देती थी। कराची में बेटे व पति से रोज मोबाइल पर बात हो जाती थी मगर जब बेटा यह पूछता था कि घर कब आओगे तो आंसू रोकना मुश्किल हो जाता था।

हिंदुस्तान मेरी जन्म भूमि, पाकिस्तान मेरा ससुराल

शगुफ्ता का कहना है कि वह अपनी बीमार मां से मिलने मायके आई थी। इसके तीन दिन बाद ही लॉकडाउन लागू हो गया था। परिवार पाकिस्तान में है। अटारी पहुंच गई हूं, अब जल्दी बच्चों के पास पहुंच जाऊंगी, यह सोच कर ही सीमा के उस पार खड़े पति व बच्चों की तरफ कदम अपने आप आगे बढ़ रहे हैं।

शगुफ्ता के मुताबिक हिंदुस्तान और पाकिस्तान दोनों देश रिश्ते हैं। हिंदुस्तान की माटी में मैं पैदा हुई हूं। ये हिंदुस्तान मुझे बहुत अजीज है। पाकिस्तान मेरे पति का घर है। वह भी दिल के करीब है। दोनों देशों की सरकारों का शुक्रिया, जिन्होंने पाकिस्तानी लोगों को अपने-अपने घरों में भेजने का प्रबंध किया।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *