महंगाई से मिलेगी राहत, घट सकते हैं खाद्य तेलों के दाम, सरकार ने लिया फैसला

देश में बेतहाशा बढ़ी महंगाई के बीच पेट्रोल और डीजल के साथ ही खाद्य तेल के दामों में भी तेजी से इजाफा देखने को मिला था...

नई दिल्ली। देश में बेतहाशा बढ़ी महंगाई के बीच पेट्रोल और डीजल के साथ ही खाद्य तेल के दामों में भी तेजी से इजाफा देखने को मिला था लेकिन अब आम जनता को ईंधन की कीमतों पर लगने वाले उत्पाद शुल्क में कटौती के बाद सरकार ने एक और राहत देने वाला कदम उठाया है। सरकार ने खाने के तेल के दामों को लेकर मंगलवार को बड़ा फैसला लिया।

edible oils

दरअसल सरकार ने 20 लाख मीट्रिक टन सोयाबीन तेल और सूरजमुखी तेल के आयात पर दो साल के लिए आयात शुल्क और एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस खत्म करने का ऐलान किया हैं जो अब तक पांच फीसदी की दर से लगता था। सरकार की घोषणा के बाद देश में खाने के तेल की कीमतें कम होने के आसार है। इस संबंध में जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि तेलों के आायात पर दी गई छूट 31 मार्च 2024 तक लागू रहेगी।

वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को अधिसूचना जारी कर कहा कि सालाना 20 लाख टन कच्चे सोयाबीन और सूरजमुखी तेल पर वित्त वर्ष 2022-23 और 2023-24 में आयात शुल्क नहीं लगाया जाएगा। बता दें कि देश में खुदरा महंगाई दर आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच चुकी है। बीते दिनों सरकार की तरफ से जारी आंकड़ों को देखें तो खुदरा महंगाई का आंकड़ा 7.79 फीसदी के स्तर पर पहुंच गया है।