गुपकार समर्थकों पर भडक़े मुख्यमंत्री शिवराज, राहुल-सोनिया से पूछे ये सवाल

कहा - जम्मू कश्मीर में लूट की दुकानें बंद हो गईं, इसलिए एकजुट हो रहे 'अब्दुल्ला' 'मुफ्ती' और 'गांधी परिवार'

जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी के गुपकार समझौते को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है।

shivraj

उन्होंने गुपकार समर्थकों पर भड़ास निकालते हुए कहा है कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर में लूट की दुकानें बंद हो गयी हैं, इसलिए ‘अब्दुल्ला’ ‘मुफ्ती’ और ‘गांधी परिवार’ एकजुट हो रहे हैं। दरअसल, यह ‘गुप्तचर संगठन’ है और चीन और पाकिस्तान के लिए गुप्तचरी का कार्य करते हुए दिखायी देते हैं। ये जासूसी करने वाले लोग हैं। ये गठबंधन नहीं है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को भाजपा कार्यालय में हुई प्रेसवार्ता में गुपकार समर्थकों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में जो अलायंस बनाया गया और उसमें शामिल जितने नेता हैं, सब राष्ट्र विरोधी बयान देते हैं। मैं ‘मेडम सोनिया’ से पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस का अनुच्छेद 370 और 35 (ए) को लेकर वास्तव में क्या दृष्टिकोण है? उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की नीतियों की भी आलोचना करते हुए कहा कि कांग्रेस जम्मू कश्मीर मामले में दोगली और दोमुंही बातें करती आ रही है

पंडित नेहरू ने सत्ता के लिए देश के विभाजन को स्वीकार कर लिया। वह आदरणीय पंडित नेहरू ही थे, जिन्होंने कश्मीर में धारा 370 लागू करवाई, एक देश में दो निशान दो विधान दो कानून व्यवस्था करके कश्मीर को भारत से समरस नहीं होने दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि -महबूबा मुफ्ती कहती हैं कि जब तक हमें जम्मू कश्मीर का झंडा वापस नहीं मिलता, तब तक हम तिरंगा नहीं थामेंगे। यह तो चीन और पाकिस्तान के लिए जासूसी करने वाले लोग हैं और यह कोई गठबंधन नहीं है। कानून की आड़ में नेताओं ने जम्मू कश्मीर में हजारों करोड़ की जमीन हड़प ली। नेशनल कान्फ्रेंस हो या टीडीपी, इनके बच्चे तो विदेशों में पढ़ते रहे हैं।

इन्होंने विलासिता पूर्ण जीवन जिया है। कश्मीर को लूटने की आजादी इनको दी गई और जम्मू और कश्मीर को अंधेरे में धकेल दिया गया। अब यह सब एकत्रित होकर देशद्रोह की भाषा बोल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने भी अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध किया था और केंद्र सरकार के इस कदम को असंवैधानिक बताया था। और तो और इसे देश की सुरक्षा के लिए खतरा तक बता दिया गया था। कांग्रेस ने देशद्रोहियों का साथ इस तरह पहली बार नहीं दिया। राहुल गांधी गुपकार गैंग में शामिल हैं।

उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुपकार गैंग देश विरोधी काम कर रही है। कांग्रेसी की गैंग के साथ मिलकर चुनाव भी लड़ रही है। वहां महिला विकास परिषद के चुनाव हो रहे हैं। वास्तव में कांग्रेस हमेशा से इन देशद्रोही ताकतों का साथ देती रही है। गुलाम नबी आजाद जैसे लोग भी इसमें है। कांग्रेस आज देशद्रोही ताकतों के साथ खड़ी हुई है। इसे पूरा देश देख रहा है। उन्होंने राहुल गांधी से सीधा सवाल किया कि क्या वे देशद्रोही ताकतों का साथ दे रहे हैं?

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सोनिया गांधी ने चर्चित बाटला हाउस मुठभेड़ मामले में रातभर आंसू बहाए थे। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी आतंकवादियों के साथ खड़े हुए नजर आए थे। दरअसल, कांग्रेस अलगाववादी मानसिकता से आज भी ऊपर नहीं उठ पायी है। उन्होंने कहा कि आज जम्मू कश्मीर में लोग चैन और अमन की सांस ले रहे हैं।

धारा 370 हटाने के बाद यहां के लोगों का नजरिया बदला है, लेकिन आज जम्मू और कश्मीर की जन्नत में यह लोग फिर से जहर खोलने का प्रयास कर रहे हैं और कांग्रेस देशद्रोही ताकतों का साथ दे रही है। इसीलिए कांग्रेस को अपनी दृष्टिकोण को जनता के सामने स्पष्ट करना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *