इस महान वैज्ञानिक ने खुद को सांप से काट कर किया था शोध, दुनिया छोड़ने से पहले लिखी थी मौत की पूरी कहानी

क्या आप सोच सकते हैं कि एक वैज्ञानिक अपने शोध के लिए अपनी जान भी गंवा सकता है। अगर नहीं तो आज हम आपको एक ऐसी सच्ची घटना के बारे में बताने जा रहे हैं। कि एक वैज्ञानिक का। जिसमें उन्होंने अपने शोध के लिए अपनी जान गंवा दी। यह कहानी है वैज्ञानिक कार्ल पैटरसन श्मिट की। जिन्होंने सांप के जहर से होने वाली मौतों के अध्ययन के लिए अपनी जान गंवा दी। श्मिट जानना चाहते थे कि सांप के काटने के बाद व्यक्ति कैसा महसूस करता है और उसका जहर मानव शरीर में कैसे फैलता है।

इसलिए कार्ल पैटरसन श्मिट ने उनकी जान पर खेल खेला। बात साल 1957 के सितंबर महीने की है। अमेरिका के शिकागो राज्य के लिंकन पार्क चिड़ियाघर में काम करने वाले एक शख्स को अजीबोगरीब सांप मिला। इस सांप की लंबाई 76 सेंटीमीटर थी। इस सांप की प्रजाति जानने के लिए वह इसे शिकागो के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम में ले गए। वहां उनकी मुलाकात प्रसिद्ध वैज्ञानिक कार्ल पैटरसन श्मिट से हुई।

श्मिट को हर्पेटोलॉजी का एक महान विशेषज्ञ माना जाता था। श्मिट ने देखा कि इस सांप के शरीर पर बहुरंगी आकृतियां हैं। वह सांप की प्रजाति का पता लगाने के लिए तैयार हो गया। इसके बाद 25 सितंबर को उन्होंने इसकी जांच शुरू की। इस दौरान उन्होंने पाया कि यह अफ्रीकी देशों में पाया जाने वाला सांप है।

इस सांप का सिर बूमस्लैंग सांप जैसा था जो उप सहारा अफ्रीका के जंगलों में पाया जाता है। लेकिन श्मिट अपनी जांच को लेकर आश्वस्त नहीं थे। इस जांच के बारे में अपनी पत्रिका में लिखते हुए श्मिट कहते हैं कि उन्हें इस सांप के बूमस्लैंग होने का संदेह है, क्योंकि इस सांप की गुदा प्लेट विभाजित नहीं थी। लेकिन इस शंका को दूर करने के लिए श्मिट कुछ अलग करना चाहते थे। जिसके लिए उन्हें अपनी जान गंवानी पड़ी।

इसके लिए श्मिट सांप को अपने बहुत करीब ले आए और उसके शरीर पर बनी आकृतियों का अध्ययन करने लगे। वह सांप के शरीर और सिर पर बनी आकृतियों और रंगों को हैरानी से देख रहा था, जब सांप ने उसे अपने अंगूठे पर काट लिया, तो सांप के काटने के बाद श्मिट ने डॉक्टर के पास जाना उचित नहीं समझा। वह जानना चाहता था कि सांप के काटने के बाद व्यक्ति कैसा महसूस करता है।

इसलिए वह अपना अंगूठा चूसकर सांप का जहर निकालने की कोशिश करने लगा। इतना ही नहीं उन्होंने सर्पदंश के बाद के अनुभवों को अपनी पत्रिका में दर्ज करना शुरू कर दिया। श्मिट अपनी पत्रिका में लिखते हैं, “4:30 से 5:30 तक मिचली आ रही थी लेकिन उल्टी नहीं हुई, मैंने होमवुड के लिए एक ट्रेन की यात्रा की।

उसके बाद 5:30 से 6:30 बजे तक ठंड और झटके का अहसास हुआ, जिसके बाद 101.7 डिग्री बुखार आया। फिर शाम साढ़े पांच बजे मसूड़ों से खून बहने लगा। श्मिट आगे लिखते हैं, “8:30 बजे मैंने दो टोस्ट खाए। फिर 9:00 से 12:20 तक मैं आराम से सो गया। उसके बाद मैंने पेशाब किया जिसमें ज्यादातर खून था।”

श्मिट आगे लिखते हैं कि, ”इसके बाद 26 सितंबर की सुबह 4:30 बजे मैंने एक गिलास पानी पिया और जी मिचलाने के कारण उल्टी हो गई. जो कुछ पच नहीं रहा था, वह मेरे पेट से निकल गया. उसके बाद मुझे काफी अच्छा लगा. सुबह 6:30 बजे तक लगा और सो गया। श्मिट ने लिखा, “सुबह 6:30 बजे मेरे शरीर का तापमान 98.2 डिग्री सेल्सियस था। मैंने टोस्ट के साथ उबले अंडे, सेब की चटनी, अनाज और कॉफी पिया। इसके बाद पेशाब नहीं, बल्कि हर तीन घंटे में एक औंस खून निकला। मुंह और नाक से खून बहना जारी रहा, लेकिन अधिक मात्रा में नहीं।

इसके बाद दोपहर डेढ़ बजे श्मिट ने अपनी पत्नी को फोन किया, लेकिन जब तक डॉक्टर पहुंचे तब तक श्मिट का पूरा शरीर पसीने से भीग चुका था. वह बेहोशी की हालत में था। जब तक वह अस्पताल पहुंचे, एक डॉक्टर ने उसे होश में लाने की बहुत कोशिश की, लेकिन दोपहर तीन बजे डॉक्टरों ने श्मिट को मृत घोषित कर दिया।

डॉक्टरों ने बताया कि श्मिट की मौत सांस लेने में तकलीफ के कारण हुई थी। आपको बता दें कि अफ्रीकी सांप बूमस्लैंग के जहर का बहुत तेज असर होता है। एक पक्षी को मारने के लिए उसके जहर का सिर्फ 0.0006 मिलीग्राम ही काफी होता है। इस जहर के असर से शरीर में खून का थक्का जमने लगता है, जिससे खून का बहाव रुक जाता है। इसके बाद शरीर में अलग-अलग जगहों से खून निकलने लगता है और फिर पीड़ित की मौत हो जाती है।

श्मिट की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके फेफड़े, आंख, हृदय, गुर्दे और मस्तिष्क से खून बह रहा था। ‘शिकागो ट्रिब्यून’ में इस मामले पर एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि श्मिट की मृत्यु से पहले, उन्हें डॉक्टर के पास जाने के लिए कहा गया था, लेकिन उन्होंने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि यह लक्षणों को प्रभावित कर सकता है।

कुछ का मानना ​​है कि श्मिट की जिज्ञासा ने उनकी जान ले ली। हालांकि, कुछ का मानना ​​है कि श्मिट इतने प्रतिष्ठित वैज्ञानिक थे कि उन्हें पता था कि इस जहर को बेअसर करने की दवा केवल अफ्रीका में ही उपलब्ध है। ऐसे में उन्होंने अपनी मौत को स्वीकार कर लिया। पब्लिक रेडियो इंटरनेशनल के साइंस फ्राइडे कार्यक्रम को प्रस्तुत करने वाले टॉम मैकनामारा का कहना है कि श्मिट अपनी मौत को सामने देखकर नहीं झिझके, बल्कि एक अनजान रास्ते पर चले गए।