ये खिलाड़ी 5 साल से भारतीय टीम में नहीं बना पा रहा जगह, कोहली पर भी लगा था आरोप!

टीम इंडिया: भारतीय क्रिकेट टीम का एक ऐसा खिलाड़ी है, जिसका करियर राजनीति का शिकार होकर लगभग खत्म होने की कगार पर पहुंच गया है. इस क्रिकेटर ने अपने तीसरे टेस्ट मैच में तिहरा शतक जड़ा था, लेकिन इसके बावजूद उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर लगभग खत्म हो चुका है। अगर इस खिलाड़ी को मौका मिलता तो वह आज टीम इंडिया के सबसे बड़े स्टार क्रिकेटरों में से एक होते। आइए एक नजर डालते हैं इस क्रिकेटर पर:

Team India

5 साल से टीम इंडिया में जगह बनाने को तरस रहा यह खिलाड़ी

भारतीय टीम के बल्लेबाज करुण नायर ने अपने टेस्ट करियर के तीसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम के खिलाफ तिहरा शतक जड़ा था. इससे पहले वीरेंद्र सहवाग के अलावा कोई भी भारतीय बल्लेबाज ऐसा रिकॉर्ड नहीं बना पाया था। इस तिहरे शतक के बाद ही करुण नायर के करियर की उलटी गिनती शुरू हुई। करुण नायर को आखिरी बार टीम इंडिया के लिए 2017 में खेलते हुए देखा गया था। तिहरा शतक बनाना हर टेस्ट विशेषज्ञ का सपना होता है। लेकिन, भारतीय चयनकर्ताओं ने उनके योगदान को पूरी तरह भुला दिया।

शास्त्री और कोहली पर लगे थे बड़े आरोप

साल 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज के लिए करुण नायर को भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया था, लेकिन पूरे दौरे के दौरान उन्हें एक भी मैच नहीं खिलाया गया। करुण नायर ने भारतीय टीम के तत्कालीन कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री पर बड़े आरोप लगाए थे। करुण नायर ने कहा था कि मुझे इंग्लैंड में पांच टेस्ट मैचों की टीम में शामिल किया गया था, लेकिन मुझे प्लेइंग इलेवन में एक भी मैच में शामिल नहीं किया गया था। इस दौरान न तो कोच और न ही कप्तान और न ही चयनकर्ताओं ने मुझे बताया कि मैं टीम से बाहर क्यों हूं। मुझसे किसी ने बात नहीं की। भारतीय सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने भी चयनकर्ताओं पर सवाल उठाए। मुरली विजय ने कहा था कि चयनकर्ताओं के बीच संवाद की कमी है। जब खिलाड़ी को टीम से बाहर किया जाता है तो वह किसी खिलाड़ी को अपनी कमियां नहीं बताता। इससे हमें यह भी नहीं पता होता है कि चयन का मानदंड क्या है।

अब लौटना लगभग नामुमकिन!

करुण नायर ने जब चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ तिहरा शतक जड़ा तो लगा कि करुण नायर लंबी दौड़ का घोड़ा है, लेकिन देखा नहीं गया। तिहरा शतक लगाने के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया था। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि टीम इंडिया के तत्कालीन कप्तान विराट कोहली अजिंक्य रहाणे को टीम से बाहर नहीं करना चाहते थे। अजिंक्य रहाणे को मौका देने के लिए करुण नायर को आउट होना पड़ा। अगर करुण नायर को और मौके दिए जाते तो वह भारत के बड़े क्रिकेट स्टार बन सकते थे।

करियर में खेले सिर्फ 6 टेस्ट मैच

करुण नायर ने नवंबर 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था और उसके बाद उन्हें आखिरी बार मार्च 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए देखा गया था। उन्होंने अपने करियर में केवल 6 टेस्ट मैच खेले हैं और 62.33 की औसत से 374 रन बनाए हैं। टेस्ट में उनका उच्च स्कोर 303 रन है। हालांकि नायर को खुद इस बात का अंदाजा नहीं होगा कि उनके शानदार प्रदर्शन के बाद उन्हें टीम में तवज्जो क्यों नहीं दी गई।

अभी तक टीम इंडिया में जगह पक्की नहीं हो पाई है।

साल 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज के लिए करुण नायर को भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया था, लेकिन पूरे दौरे के दौरान उन्हें एक भी मैच नहीं खिलाया गया। इंग्लैंड में उसके साथ जो हुआ, उसने शायद उसके मानसिक स्तर को प्रभावित किया। वह टीम में थे, लेकिन उनकी जगह हनुमा विहारी को मौका मिला। कभी-कभी इस तरह की चीजें आप पर बड़ा असर डालती हैं। विहारी को टीम के बाहर प्लेइंग इलेवन में मौका दिया गया था, लेकिन नायर को मौका नहीं मिला। करुण नायर सबसे कम टेस्ट पारियों में तिहरा शतक लगाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने, लेकिन आज तक वह टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए हैं।