Bihar के इस जिले में है रहस्यमयी सोने का भंडार, अगर खुल गया दरवाजा तो सबसे अमीर हो जायेगा भारत

अपनी पुरानी संस्कृति के लिए दुनिया भर में फेमस भारत में आज भी कई रहस्यमयी जगहें हैं जो देश के वैज्ञानिकों के लिए पहेली बनी हुई हैं।

बिहार। अपनी पुरानी संस्कृति के लिए दुनिया भर में फेमस भारत में आज भी कई रहस्यमयी जगहें हैं जो देश के वैज्ञानिकों के लिए पहेली बनी हुई हैं। इन्हीं में शामिल है बिहार (Bihar) में स्थित एक सोने का भंडार। कहते हैं इस सोने के भंडार में एक रहस्यमयी दरवाजा लगा है जो लाख कोशिश के बाद भी आज तक नहीं खोला जा सका। हालांकि इस दरवाजे को कई बार खोलने का प्रयास किया गया लेकिन कभी भी इसमें कामयाबी नहीं मिली। यह सोने का भंडार बिहार के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल राजगीर में एक गुफा के भात्र मौजूद है। राजगीर (Rajgir) भारत के बिहार राज्य के नालंदा ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक नगर है।

Bihar - Rajgir (gold)

इतिहासकार बताते हैं कि हर्यक वंश की स्थापना करने वाले राज बिम्बिसार को सोने चांदी से विशेष लगाव था। अपने इस लगाव की वजह से वे सोने और चांदी के आभूषणों को जमा करते रहते थे। कहते हैं कि राजगीर की इसीगुफा में बिम्बिसार ने अपना सारा बेशकीमती खजाना छिपाकर रखा था। इस खजाने को बिम्बिसार की पत्नी ने छिपाया है लेकिन इस खजाने को आज तक कोई भी नहीं खोज पाया। (Bihar)

बताया जाता है की अंग्रेजों इस गुफा में जाने की बहुत कोशिश की थी लेकिन वे कभी भी सफल नहीं हो पाए थे। इस खजाने को ‘सोन भंडार’ कहा जाता है। इतिहासकार बताते हैं कि इस गुफा का निर्माण खुद बिम्बिसार की पत्नी ने करवाया था। यह सोन भंडार आज भी दुनियाभर के लिए एक रहस्य बना हुआ है। (Bihar)

बता दें कि प्राचीन समय में मगध की राजधानी राजगीर (Rajgir) में ही थी। वहीं बिंबिसार भगवान बुद्ध के अनन्य भक्त थे और बौद्ध धर्म को ही मानते थे। बिहार के प्रसिद्ध स्थलों में शामिल यह स्थान भगवान बुद्ध से जुड़े स्मारकों के लिए मुख्य रूप से जाना जाता है। वहीं कुछ इतिहासकारों का मानना है कि ये खजाना पूर्व मगध सम्राट जरासंघ का है, लेकिन इस बात के अधिक प्रमाण हैं कि यह खजाना हर्यक वंश के संस्थापक बिम्बिसार का है। (Bihar)

अजब गजब: चार साल पहले की थी ‘मनचाही दुल्हन’ से शादी, लेकिन कभी नहीं कर पाया बात, जानें क्यों