CORONA के खिलाफ हिंदुस्तान का बड़ा हथियार बन सकती है ये वैक्सीन, शोध में परिणाम बेहतर

नई दिल्ली ।। CORONA__VIRUS से बचाव के लिए पूरे विश्व के वैज्ञानिक वैक्सीन तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अभी तक किसी को सफलता नहीं मिल पाई है। हिंदुस्तान में भी इस दिशा में तेजी से काम हो रहा है। इस बीच मुम्बई से एक अच्छी खबर आई है। यहां 90 साल पुरानी एक दवा पर रिसर्च की जा रही है और CORONA__VIRUS से फाइट में इसके परिणाम अभी तक अच्छे बताये जा रहे हैं।

मुम्बई के परेल स्थित हाफकिन इंस्टीट्यूट में इस दवाई पर रिसर्च की जा रही है। ये वैक्सीन BCG यानी Bacillus Calmette-Guerin है। इस वैक्सीन को बनाने में 1908 से 1921 के बीच 13 साल का समय लगा था। फ्रैंच बैक्टीरियालॉजिस्ट अल्बर्ट काल्मेट और कैमिल गुरीन ने मिलकर इसे बनाया था। अब तक BCG का प्रयोग टीबी के रोगियों के लिए किया जाता है।

लेकिन परिणाम बेहतर रहे तो कोविड 19 के विरूद्ध भी ये वैक्सीन बड़ा हथियार बन सकती है। हाफकिन इंस्टीट्यूट के शोधकर्ता निरंतर इस पर काम कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो अब तक की शोध में जो टेस्ट किये गये हैं वो बहुत ही सकारात्मक हैं।

पढ़िएःहाइड्रोक्सी क्लोरोक्विन दवा के बदले अमेरिका ने हिंदुस्तान को दिया ये बड़ा तोहफा, गिफ्ट है खतरनाक