बिक रही है बाबा रामदेव की ये जानी-मानी कंपनी, जानें कौन खरीद रहा है इसे

कम्पनी ने कहा है कि दस मई को बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने बिजनेस ट्रांसफर एग्रीमेंट पर साइन भी कर दिया है।

भारत के बड़े बिजनेसमैन में शुमार योग गुरू बाबा रामदेव की एक कंपनी बिकने जा रही है। हर कोई जानकर हैरान है कि आखिर इस कंपनी को खरीद कौन रहा है और ये बिक क्यों रही है।

Ramdev

रुचि सोया इंडस्ट्रीज (Ruchi Soya Industries) ने 11 मई को घोषणा की है कि वो पतंजलि के बिस्किट बिजनस पतंजलि नेचुरल बिस्किट पीवीटी एलटीडी का अधिग्रहण करेगी। ये डील 60.02 करोड़ रुपये में तय हुआ है। कम्पनी ने कहा है कि दस मई को बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने बिजनेस ट्रांसफर एग्रीमेंट पर साइन भी कर दिया है।

इतनी किश्तों में होगा भुगतान

इस सौदे का प्रोसेस अगले दो महीनों में पूरी हो जावेगा। रुचि कंपनी ने कहा है कि सौदे के धन दो किश्तों में दिए जाएंगे। इसमें से पंद्रह करोड़ रुपए एग्रीमेंट की क्लोजिंग डेट पर या उससे पहले दिए जाएंगे और बाकी के तकरीबन 45 करोड़ रुपये क्लोजिंग डेट के 90 दिनों के भीतर यानि लगभग तीन माह में चुकाए जाएंगे।

कंपनी के संपत्ति और कर्मचारी भी होंगे ट्रांसफर

इस लेनदेन में कुछ कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग एग्रीमेंट भी हैं और साथ ही कर्मचारियों के साथ-साथ कंपनी के असेट्स भी लेनदेन होंगे। करंट असेट्स और करंट लाएबिलिटी, सहित सभी लाइसेंस और परमिट भी रुचि सोया को ट्रांसफर होंगे। इस सौदे का मकसद कंपनी के मौजूदा प्रोडक्ट पोर्टफोलिया को और बढ़ाना है।

कर्ज लेकर पतंजलि ने खरीदी थी कर्ज में डूबी कंपनी

रुचि सोया इंडिया में न्यूट्रिला, महाकोश, रुचि गोल्ड जैसे कई बड़ी कंपनियों के साथ व्यापार कर रही है। एक समय ऐसा था जब रुचि सोया भारी कर्ज में डूबी थी, जिसके बाद 2019 में पतंजलि आर्युवेद ने कम्पनी को 4350 करोड़ रुपए में खरीद लिया। इसके लिए खुद पतंजलि को बत्तीस सौ करोड़ रुपये का उधार लेना पड़ा था। पतंजलि ने एसबीआई से 1200 करोड़, सिंडिकेट बैंक से 400 करोड़, पंजाब नेशनल बैंक से 700 करोड़, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से 600 करोड़ और इलाहबाद बैंक से 300 करोड़ रुपये का उधार लिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *