सरकार ने किया बड़ा ऐलान, कहा- एक साल में लगाए जाएंगे तीन करोड़॰॰॰

हरियाणा में पंचायत की 8 लाख एकड़ भूमि में से 10 % भूमि पर पेड़-पौधे लगाए जाएंगे जिसका नाम ऑक्सी वन होगा

चंडीगढ़॥ हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने पर्यावरण दिवस पर कहा कि प्राकृतिक ऑक्सीजन को लेने के लिए राज्य में एक साल में तीन करोड़ पौधे लगाए जाएंगे। हरियाणा में पंचायत की 8 लाख एकड़ भूमि में से 10 % भूमि पर पेड़-पौधे लगाए जाएंगे जिसका नाम ऑक्सी वन होगा। इतना ही नहीं एक वर्ष में लगे सभी पेड़ों का नाम भी ऑक्सी वन रखा जाएगा।

haryana one year 3 cr. tree

सीएम ने शनिवार को करनाल के सेक्टर-चार के समीप मुगल कैनाल पर वन विभाग की जमीन पर ऑक्सी वन की शुरूआत की। सीएम, वन एवं शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर, सांसद संजय भाटिया, घरौंडा के विधायक हरविन्द्र कल्याण, वन विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती जी.अनुपमा ने भी पंचवटी पौधारोपण किया।

सीएम ने कहा कि कोरोना महामारी में सबसे बड़ी समस्या ऑक्सीजन की हुई जोकि हमें पेड़-पौधों से मिलती है। प्राण वायु का कोई विकल्प नहीं, इसी कारण से इसका नाम ऑक्सी वन रखा गया है। कोरोना काल में जो भी ऑक्सीजन प्रयोग की गई वह कृत्रिम थी और प्रदेश में 300 एमटी की सप्लाई का प्रबंध किया गया।

मनोहर लाल ने कहा कि सरकार ने धान की रोपाई को बंद करके अन्य फसल बीजने पर सरकार द्वारा प्रति एकड़ सात हजार रुपये देने का निर्णय लिया गया था, परंतु अब सरकार ने निर्णय लिया है कि जो भी किसान एग्रो फोरेस्टी करता है और अपनी जमीन पर 400 पेड़ लगाता है तो उसको सरकार 10 हजार रुपये तीन वर्ष तक देगी।

उन्होंने कहा कि वृक्षों को बचाना जरूरी है, इसके लिए ऐसे सेवक जो वृक्षों का रखरखाव करते हैं उनका मान-सम्मान हो। इस योजना के तहत 22 लाख लोगों ने पौधारोपण किया। इस योजना से विद्याार्थियों को जोड़ा गया और उन्हें 50 रुपये हर छ: माह में तीन वर्ष के लिए देने के लिए निर्णय लिया गया था ताकि पौधों का रखरखाव किया जा सके।

उन्होंने कहा कि पौधारोपण के बाद उसका रखरखाव नहीं हो पाता जिस कारण अधिकतर पौधे 2 साल में ही समाप्त हो जाते हैं। हर व्यक्ति को चाहिए कि वह अपने परिवार के बच्चे की तरह पेड़-पौधों की परवरिश करे। उन्होंने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में राज्य सरकार द्वारा पंचकूला शहर के निवासियों के लिए उपहार स्वरूप बीड़ घग्गर में सौ एकड़ क्षेत्र में कुल एक करोड़ रुपये की लागत से ऑक्सी वन, पंचकूला की स्थापना की जा रही है।

सीएम ने कहा कि इसी प्रकार, ऑक्सी वन, करनाल को पुरानी बादशाही नहर (जिसे मुगल नहर के रूप में भी जाना जाता है) पर 80 एकड़ के क्षेत्र में कुल 4.2 किलोमीटर की लंबाई में बनाया जाएगा और इस पर कुल पांच करोड़ रुपये की राशि खर्च होगी। उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल और पानीपत जिलों में स्थित सभी 134 कुरुक्षेत्र तीर्थों में ऐसे पंचवटी वाटिकाएं स्थापित की जाएंगी।

वन एवं शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि पर्यावरण के लिए पूरी दुनिया में चिंता बढ़ रही है। पेड़ों की कमी के कारण प्राकृतिक ऑक्सीजन की कमी हो रही है, लोगों द्वारा पेड़ों का शोषण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए और जो भी समारोह हो उस समारोह को पेड़ पौधों के रूप में मनाए ताकि पर्यावरण का संतुलन बना रहे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *