Trending

उपद्रवियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार एक्शन लेने में अव्वल, प्रदर्शनकारियों पर चलेगा अब सरकारी डंडा

अकेले उत्तर प्रदेश में 200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार, जबकि पश्चिम बंगाल सिर्फ 60 लोगों ही गिरफ्तार हुऐ

 

नई दिल्ली। पूर्व भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा के विवाद की चर्चा है कि थमनें का नाम नहीं ले रहीं है जी हां बतादें की नुपूर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद पर कथित रूप से भड़काऊ टिप्पणी के खिलाफ शुक्रवार को हिंसक विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद देश के कई हिस्सों में अभी तक तनाव व्याप्त है।

Prophet Muhammad,  Uttar Pradesh,  West Bengal,  Bulldozer,  Nupur Sharma,  BJP leader, National News In Hindi, India News In Hindi,पैगंबर मुहम्मद, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बुलडोजर, नूपुर शर्मा, बीजेपी नेता,Hindi News, News in Hindi

दरअसल पूर्व भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद पर कथित रूप से भड़काऊ टिप्पणी के खिलाफ शुक्रवार को जोरदार हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ। आलम ये रहा की हिंसा शुरू होने के बाद अभी भी देश के कई हिस्सों में तनाव व्याप्त है।

इस शानदार कार ने Swift, Baleno या Alto को भी किया फेल, ये है इसके खास एक्ट्रेक्टीव फिचर्स

बात करें झारखंड की तो आपकों बतादें की, राजधानी रांची में झड़पों ने दो लोगों की जान ले ली, तो वहीं पश्चिम बंगाल का हावड़ा अभी भी सहमा हुआ है। प्रदर्शनकारियों ने जमकर हंगामा तो काटा ही साथ ही घरों में आग लगा दी गई और संपत्तियों को तोड़ दिया गया। पुलिस के साथ भी उपद्रवियों की झड़प हुई।

Rashifal 12 june 2022: इस सप्ताह इन राशिवालों को नहीं होगी धन की कमी, मां लक्ष्मी रहेंगी मेहरबान

हिंसा के मद्देनजर पुलिस की कार्रवाई तेज हो गई है। अकेले उत्तर प्रदेश में 200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि पश्चिम बंगाल पुलिस ने उग्र विरोध के सिलसिले में 60 लोगों को गिरफ्तार किया। दिल्ली, महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में भी मामले दर्ज किए गए जहां नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर लोगों ने जुमे की नमाज के बाद बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया।

Ginger Benefits in Hindi: जानिए अदरक खाने के रहस्यमयी फायदे

पश्चिम बंगाल
पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले, मुर्शिदाबाद जिले के कुछ हिस्सों और दक्षिण 24 परगना में शनिवार को ताजा हिंसा की खबर मिली। पुलिस ने कहा कि दंगा, हत्या के प्रयास और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के आरोपों में कम से कम 60 लोगों को गिरफ्तार किया गया और उन पर मामला दर्ज किया गया।

प्रयागराज हिंसा : उपद्रव का तीसरा दिन बाद सड़कों पर पसरा सन्नाटा, इलाके में दशहत का माहौल बरकरार