वर्चुअल संवाद: अमेरिका ने 110 देशों को भेजा निमंत्रण, चीन-रूस को किया बाहर, ड्रैगन से फिर बढ़ा तनाव

आगामी नौ और दस दिसंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन लोकतंत्र पर वर्चुअल संवाद करेंगे। इस संवाद में शामिल होने के लिए अमेरिका की तरफ...

वाशिंगटन। आगामी नौ और दस दिसंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन लोकतंत्र पर वर्चुअल संवाद करेंगे। इस संवाद में शामिल होने के लिए अमेरिका की तरफ से ताइवान समेत 110 देशों को निमंत्रण भेज दिया गया है।
बताया जा रहा है कि लोकतंत्र के मुद्दे पर एक बार फिर अमेरिका कम्युनिस्ट देशों के साथ स्पष्ट बात करने के मूड में है। ये संवाद नौ-दस दिसंबर को अमेरिका में होगा।

AMERICA

इस वर्चुअल संवाद के लिए जिन देशों को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की तरफ से न्योता भेजा गया है उसमें कम्युनिस्ट देश चीन और रूस को शामिल नहीं किया गया है। वहीं लोकतांत्रित देश ताइवान को निमंत्रण भेजा गया है। ऐसे में कहा जा सकता है कि चीन और अमेरिका के बीच एक बार फिर तनाव बढ़ गया है। दरअसल, बीते दिन पहले ताइवान मुद्दे पर अमेरिका और चीन आमने-सामने आ चुके हैं। ऐसे में चीन को लिस्ट से बाहर रखकर अमेरिका ने ताइवान के प्रति अपना रुख साफ़ कर दिया है।

110 देशों को निमंत्रण 

अमेरिका की तरफ से ‘लोकतंत्र’ पर संवाद के लिए वर्चुअल समिति का आयोजन किया जा रहा है। इसमें विश्व भर के 110 देशों को शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय से जारी की गई इस लिस्ट से चीन और रूस जैसे कई बड़े देशों के साथ ही दक्षिणी एशियाई देश से अफगानिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका को भी बाहर रखा गया है। वहीं ‘नाटो’ के सदस्य टर्की को भी इस लिस्ट में जगह नहीं दी गयी है।

भारत, पाक और इराक को भी भेजा न्योता 

अमेरिका ने इस वर्चुअल समिट में शामिल होने के लिए भारत के साथ ही पाकिस्तान और इराक को भी निंमत्रण भेजा है।

अफगानिस्तान को नहीं दी तवज्जो

अमेरिका ने तालिबान शासित अफगानिस्तान को भी लोकतंत्र पर संवाद के लिए न्योता नहीं भेजा है। यह तालिबान की नई सरकार के लिए बड़ा झटका है। बता दें कि, अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से तालिबान अंतर्राष्ट्रीय मान्यता के लिए काफी प्रयास कर रहा है लेकिन अमेरिका ने उसे तवज्जो न देकर अपने इरादे को साफ कर दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *