Warning: अगस्त में रोजाना एक लाख से अधिक आएंगे कोविड के मामले, डराने वाली होगी तस्वीर!

भारत में कोरोना की सेकेण्ड वेब का कहर अभी पूरी तरह से समाप्त भी नहीं हुआ था और अब एक्सपर्ट्स ने कोविड की थर्ड बेव को लेकर चेतावनी (Warning) जारी...

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की सेकेण्ड वेब का कहर अभी पूरी तरह से समाप्त भी नहीं हुआ था और अब एक्सपर्ट्स ने कोविड की थर्ड बेव को लेकर चेतावनी (Warning) जारी कर दी है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगस्त में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। उनका कहना है हालात और अधिक खराब होने पर कोरोना के मामले डेढ़ लाख तक भी पहुंच सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार अगस्त में शुरू होने वाली तीसरी लहर अक्टूबर में अपने पीक पर जा सकती है। दूसरी लहर में लाचार स्वास्थ्य व्यवस्था की तस्वीर डराने वाली थी। अगर तीसरी लहर ने भी ऐसी तबाही मचाई तो देश में भीषण तबाही आ सकती है।

corona case- Warning
हैदराबाद और कानपुर IIT में मथुकुमल्ली विद्यासागर और मनिंद्र अग्रवाल के नेतृत्व में शोधकर्ताओं का हवाला देते हुए ब्लूमबर्ग ने बताया कि कोविड -19 मामलों में हो रही वृद्धि कोरोनो महामारी की तीसरी लहर को आगे बढ़ाएगी। उन्होंने बताया कि यह अक्टूबर में चरम पर होगी। एक्सपर्ट्स का कहना है कि केरल और महाराष्ट्र में जिस तेजी से कोविड के मामले सामने आ रहे हैं उसे देखकर साफ कहा जा सकता है कि आने वाला समय भयावह (Warning) हो सकता है।

वहीं एक्सपर्ट्स का यह भी कहना है कि कोविड की तीसरी लहर, दूसरी लहर जितनी खतरनाक नहीं होगी। बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर में रोजाना देश में 4 लाख कोरोना मामले देखने को मिल रहे थे। इस साल कोरोना की स्थिति के बारे में अनुमान लगाने वाले विशेषज्ञों का अनुमान एक गणितीय मॉडल पर आधारित था। मई में, IIT हैदराबाद के एक प्रोफेसर, विद्यासागर ने कहा कि भारत के कोरोना वायरस का प्रकोप आने वाले दिनों में गणितीय मॉडल के आधार पर चरम पर हो सकता है।भारत में रविवार को कोरोना के 41,831 नए मामले सामने आए और 541 लोगों मौत हुई। (Warning)

केंद्र सरकार ने केरल, महाराष्ट्र और पूर्वोत्तर क्षेत्रों सहित 10 राज्यों को चेतावनी दी है कि बढ़ते संक्रमण के बीच और उन्हें कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम में लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस को डेल्टा वेरिएंट चिकनपॉक्स की तरह आसानी से फैल सकता है और वैक्सीन लगवाने वालों में भी फैल सकता है। इंडियन Sars-CoV-2 जीनोमिक कंसोर्टियम (INSACOG) के आंकड़ों के अनुसार, मई, जून और जुलाई में हर 10 कोविड -19 मामलों में से लगभग 8 कोरोनो वायरस के अत्यधिक संक्रामक डेल्टा संस्करण के कारण होते थे। (Warning)

Surya Dev तीन अगस्त को अश्लेषा नक्षत्र में आएंगे, इन 4 राशि वालों की चमक जाएगी किस्मत

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *