अमरिंदर सिंह की नई पार्टी का कांग्रेस पर क्या होगा असर

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को साफ कर दिया कि वह एक महीने के अंदर अपनी नई पार्टी का गठन कर लेंगे ।

पटियाला :पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को साफ कर दिया कि वह एक महीने के अंदर अपनी नई पार्टी का गठन कर लेंगे । उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वह अपनी पार्टी में उन सीनियर सिख नेताओं को तरजीह देंगे, जो अपने दलों से अलग हो चुके हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि उनकी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस को छोड़ किसी भी अन्य दल से गठबंधन करने का विकल्प खुला रखेगी। अगर भाजपा, अकाली दल और अन्य दलों से अलग हुए नेता उनकी पार्टी में आते हैं तो इस तरह एक नया राजनीतिक मंच प्रदेश की जनता के सामने मजबूत विकल्प के रूप में पेश होगा, जो पंजाब को नई दिशा देने में भी समर्थ होगा।

Chief Minister Capt Amarinder

उल्लेखनीय है कि गत माह मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद सियासी हलकों में कयास लगाए जा रहे थे कि कैप्टन भाजपा में शामिल हो सकते हैं। इन कयासों को उस समय और बल मिला जब कैप्टन ने अपने दिल्ली दौरे के दौरान गृह मंत्री अमित शाह समेत कई सीनियर भाजपा नेताओं से मुलाकात की।

पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की नई राजनीतिक पार्टी पंजाब में कांग्रेस के लिए बड़ा सिरदर्द बन सकती है। हालांकि कैप्टन ने अपनी पार्टी में उन वरिष्ठ राजनेताओं को तरजीह देने का संकेत दिए हैं जो अन्य पार्टियों में थे लेकिन अब अपनी पार्टी से अलग हो चुके हैं । वहीं, कांग्रेस को छोड़ भाजपा समेत कैप्टन ने अन्य सभी दलों से चुनाव पूर्व और चुनाव के बाद गठबंधन का विकल्प भी खुला रखा है। लेकिन प्रदेश कांग्रेस की मौजूदा स्थिति और भीतरी घमासान को देखते हुए स्पष्ट है कि 2022 के चुनाव निकट आने तक कांग्रेस कई हिस्सों में टूट सकती है और इससे अलग होने वाले ज्यादातर नेता कैप्टन की पार्टी से जुड़ेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *