दिलीप कुमार की मौत पर भारत से ज्यादा क्यों रो रहा पाकिस्तान, सामने आया ये बड़ा कारण

कई फिल्मी हस्तियों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शोक व्यक्त किया है। अब क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने दिग्गज अभिनेता के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

दिलीप साहब के नाम से मशहूर दिलीप कुमार ने लंबी बीमारी के बाद 98 साल की उम्र में आज मुंबई में अंतिम सांस ली। दिग्गज स्टार को हाल ही में हॉस्पिटल से छुट्टी मिली थी और तबीयत खराब होने के कारण उन्हें फिर से भर्ती कराया गया था। उन्हें द्विपक्षीय फुफ्फुस बहाव का निदान किया गया था, फेफड़ों के बाहर फुफ्फुस की परतों के बीच अतिरिक्त तरल पदार्थ का निर्माण और एक सफल फुफ्फुस आकांक्षा प्रक्रिया से गुजरना पड़ा।

 

अभिनेता का इलाज कर रहे डॉक्टर जलील पारकर ने पीटीआई-भाषा को बताया कि लंबी बीमारी के कारण सुबह साढ़े सात बजे उनका निधन हो गया।

कई फिल्मी हस्तियों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शोक व्यक्त किया है। अब क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने दिग्गज अभिनेता के निधन पर शोक व्यक्त किया है। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने लिखा, वास्तव में हम अल्लाह के हैं और अल्लाह के लिए हम लौट आएंगे। केपीके से लेकर मुंबई और दुनिया भर में यूसुफ खान साहब के प्रशंसकों के लिए एक बहुत बड़ी क्षति। वह हमारे दिलों में रहता है। तो वहीं पाकिस्तानी प्रेसिडेंट आरिफ अल्‍वी ने भी शोक व्यक्त किया है।

आपको बता दें कि दिलीप कुमार को पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर फैन फॉलोइंग मिली। दिलीप कुमार को पाकिस्तान के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार निशान-ए-इम्तियाज के एकमात्र भारतीय प्राप्तकर्ता होने का गौरव प्राप्त था। यूसुफ खान के रूप में पैदा हुए दिलीप कुमार ने 1944 में अपनी पहली फिल्म ज्वार भाटा की और 54 साल बाद 1998 में अपनी आखिरी किला की। उनकी कुछ प्रसिद्ध फिल्मों में आन, दाग, देवदास, मधुमती, आज़ाद, मुगल-ए-आज़म, गंगा जमुना, क्रांति, कर्मा, राम और श्याम शामिल हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *