जानें कश्मीर में क्यों अहम है पीएम मोदी की मीटिंग, आर्टिकल 370 खत्म होने के बाद कितना हुआ बदलाव?

तीन अगस्त 2019 को J&K से आर्टिकल 370 हटाने के दो दिन पहले ही मोदी सरकार ने बाहरी लोगों को राज्य छोड़ कर जाने के आदेश जारी कर दिए थे

कश्मीर आज कुछ बड़ा होना वाला है, क्योंकि यहां आज पीएम मोदी की नेताओं का साथ हाई लेवल मीटिंग होने वाली है। बता दें कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटी लमसम 2 वर्ष पहले 5 अगस्त 2019 को। केंद्र ने एक झटके में जम्मू कश्मीर को मिला विशेष दर्जा समाप्त कर दिया।

Kashmir

जानकारी के मुताबिक इन दोनों केंद्र शासित राज्यों को जम्मू, कश्मीर एवं लद्दाख में बांट दिया। उसके बाद से ही कश्मीर में सियासी हालात अस्थिर बने हुए हैं। इस निर्णय के बहुत दिनों बाद तक जम्मू कश्मीर के आला नेताओं नजरबन्द रखा गया। अब 2 वर्ष उपरांत भारतीय पीएम मोदी प्रदेश के बड़े नेताओं से मीटिंग करने वाले हैं।

क्यों होने वाली है ये बैठक

ये मीटिंग क्यों होने वाली है इसको लेकर कई कयास लगाए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस हाईलेवल मीटिंग में कश्मीर में अब तक चला आ रहा सियासी गतिरोध समाप्त करने की कोशिश होगी। साथ ही केंद्र शासित राज्य को अब पूर्ण प्रदेश का दर्जा देने पर भी संभावनाएं जताई जा रही हैं।

कश्मीर में कितना बदलाव

आपको बता दें कि तीन अगस्त 2019 को J&K से आर्टिकल 370 हटाने के दो दिन पहले ही मोदी सरकार ने बाहरी लोगों को राज्य छोड़ कर जाने के आदेश जारी कर दिए थे। जिसमें पर्यटक या किसी कार्य के लिए में वहां पहुंचे लोग शामिल थे। जो छात्र बाहर से जम्मू कश्मीर में पढ़ाई के लिए गए थे उन्हें भी घर वापस भेज दिया। इस प्रोसेस के चलते घाटी का पर्यटन प्रभावित हुआ। जिसका असर स्थानीय कारीगर, टैक्सी ड्राइवर और होटल कारोबिरयों पर पड़ा। इस चेंजेस के बाद मोदी सरकार ने कश्मीर की कला को दोबारा जीवित करने के प्रयास शुरू कर दिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *