पुलिस पर मजदूरों ने की पत्थरबाजी, जानिए क्यों हो रही हिंसा

नई दिल्ली ।। यूपी व बिहार राज्य में स्थित अपने घरों तक पहुंचने की कोशिश कर रहे प्रवासी मजदूरों की सूरत के पांडेसरा इलाके में पुलिस से झड़प हो गई। हालांकि सरकार ने राज्य में मजदूरों के लिए व्यापक इंतजाम कर रखे हैं, फिर भी जब यूपी और बिहार के एक समूह को सूरत में पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो वे उग्र हो गए।

सूरत की डेप्युटी पुलिस कमिश्नर विद्या चौधरी ने बताया कि करीबन 1,000 लोगों की भीड़ ने अचानक पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया और कई वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस पथराव में कुछ पुलिस वालों को मामूली चोटें आई हैं। घटना में चौधरी की गाड़ी भी क्षतिग्रस्त हो गई।

स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को आंसू-गैस के गोले दागने पड़े। पुलिस ने 93 लोगों को अरेस्ट किया है। बता दें कि राज्य पुलिस अभी लोगों पर बल प्रयोग करने से परहेज कर रही है। साथ ही पुलिस रास्ते में मजदूरों के लिए भोजन और पानी की व्यवस्था भी कर रही है।

चौधरी ने बताया, ‘हम उन्हें यात्रा नहीं करने के लिए मनाने की कोशिश कर रहे थे।’ साथ ही सूरत नगर निगम ने पहले ही 330 स्कूलों में प्रवासी मजदूरों के रहने और खाने इत्यादि की व्यवस्था के लिए गैर सरकारी संगठनों के साथ टाईअप भी किया है। लेकिन ये लोग घर वापस जाने के लिए अड़े हैं। इनमें से कइयों को उनका वेतन भी नहीं मिला है।’