बिजली कर्मचारियों के आंदोलन के बाद योगी सरकार पीछे हटी, निजीकरण का फैसला वापस

उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारियों की हुंकार के बाद योगी सरकार को निजीकरण का फैसला वापस लेना पड़ा है

लखनऊ, 06 अक्टूबर यूपी क्रिरण। उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारियों की हुंकार के बाद योगी सरकार को निजीकरण का फैसला वापस लेना पड़ा है ।‌ दो दिन पहले जब प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने एलान किया था कि बिजली को प्राइवेट हाथों में दिया जाएगा ।

इससे गुस्साए यूपी के लाखों कर्मचारी सड़क पर उतर आए थे। कर्मचारियों ने प्रदेश भर में काम रोक दिया था, जिसके बाद कई शहरों में बिजली व्यवस्था बाधित हो गई थी। बिजली कर्मियों के आक्रोश को देखते हुए आज प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निजी करण करने का फैसला फिलहाल टाल दिया है ।

 

बता दें कि कर्मचारियों ने सरकार से कहा था कि अगर उनकी मांगे न मानी गईं तो वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे । कर्मचारियों का आंदोलन जैसे जैसे आगे बढ़ता जा रहा था, आम जनता की मुश्किलें बढ़ती जा रही थीं । राज्य सरकार ने पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड निजीकरण का प्रस्ताव वापस ले लिया है । उत्तर प्रदेश में बिजली कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन खत्म हो गया है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *