5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

बिजली कटौती पर योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई!

उत्तर प्रदेश॥ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर ऊर्जा विभाग में भ्रष्टाचार और लापरवाही के मामले में एक बड़ी कार्रवाई की गई है। दरअसल, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) अंशुल अग्रवाल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें तत्काल निदेशक (तकनीकी) के पद से हटा दिया गया है। जानकारी के अनुसार अंशुल अग्रवाल को 26 जून 2018 को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र से जुड़े पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) पद पर तैनात किया गया था।

बता दें कि 7 जुलाई को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के ही 33/11 केवी मछोदरी विद्युत उपकेंद्र में अंडर ग्राउंड केबिल में हुई फाल्ट के चलते करीब 18 घंटे तक बिजली गुल हो गई, जिससे न सिर्फ वाराणसी के लोगो को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा, बल्कि पीएम मोदी के ही क्षेत्र में बिजली गुल हो जाने से ऊर्जा विभाग की छवि भी धूमिल हुई। हद तो तब हो गई जब 21 जुलाई को एक बार फिर इस क्षेत्र में आई फाल्ट के चलते 36 घंटे तक बिजली दोबारा गुल हो गई।

पढ़िए-आम जनता को लगा तगड़ा झटका, 77 रुपए महंगा हुआ रसोई गैस सिलेंडर

इसके बाद ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के निर्देश पर इस मामले की उत्तर प्रदेश पॉवर कॉरपोरेशन के स्तर से जांच कराई गई। इसमें पता चला कि मछोदरी उपकेंद्र को एक अन्य उपकेंद्र से वैकल्पिक विद्युत आपूर्ति के लिए न तो केबिल को ठीक कराया गया और न ही 7 जुलाई को 18 घंटे बिजली गुल रहने के बावजूद अंडर ग्राउंड केबिल के स्टैंड बाई सर्किट्स में मौजूद दूर कराकर चालू हालत में रखा गया।

Loading...

जिसके कारण वाराणसी के लोगों को दोबारा 36 घंटे की बिजली कटौती झेलनी पड़ी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश पॉवर कॉरपोरेशन स्तर की समीक्षा में यह बात भी सामने आई है कि पूर्वांचल विधुत वितरण निगम के वाराणसी, प्रयागराज और गोरखपुर जैसे कई अन्य महत्वपूर्ण जनपदों के 2500 परिवर्तक लंबे समय से खराब पड़े हैं। साथ ही विद्युत वितरण निगम की कार्यशालाओं में खराब परिवर्तकों को समय से रिपेयर करने की कार्रवाई का अनुश्रवण भी नहीं किया गया।

इस संबंध में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निदेशक (तकनीकी) अंशुल अग्रवाल से पहले स्पष्टीकरण तलब किया गया। फिर अंशुल अग्रवाल को अपने अधीनस्थ अधिकारियों पर प्रभावी नियंत्रण न रख पाने और उनकी लापरवाही के चलते विभाग की छवि धूमिल करने के कारण तत्काल प्रभाव से निदेशक पद से हटा दिया गया है।

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com