img

स्कूली वैन चालक की लापरवाही के कारण आज सुबह कुशीनगर के विशुनपुरा थाना क्षेत्र के दुदही बहपुरवा रेलवे क्रासिंग पर सुबह सिवान से गोरखपुर जा रही 55075 अप सवारी गाड़ी की चपेट में स्कूली वाहन के आ जाने से 13 बच्चों की मौत हो गई। आधा दर्जन से अधिक गंभीर रूप से घायल हो गए।

हादसे में घायल बच्चों को गोरखपुर मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। बच्चों को घटनास्थल से गोरखपुर लाने के लिए 100 किमी का पूरा ट्रैफिक खाली करा लिया गया। आनन-फानन में हाईवे के सभी थानेदारों को तैनात कर दिया गया। चौकी इंजार्ज और सिपाही भी जगह-जगह खड़े कर दिए गए। एक जगह से घायलों के पास होने के बाद अगली जगह की लोकेशन सभी एक दूसरे को बता रहे थे। इस तरह काफी कम समय में सभी घायल बच्चे कुशीनगर से गोरखपुर पहुंचा दिए गए।

दुदही बाजार स्थित डिवाइन स्कूल का वाहन बच्चों को लेकर स्कूल जा रहा था। दुदही – रजवाबर समपार फाटक विहीन क्रासिंग पर जैसे ही वाहन पहुंचा तभी सिवान से गोरखपुर जा रही सवारी गाड़ी आ गई। ट्रेन आती देख बच्चे शोर मचाने लगे। चालक कान में ईयरफोन लगाये था जिससे उसने न तो ट्रेन की आवाज सुनी और न ही बच्चों के चिल्लाने की आवाज।

तब तक स्कूली वाहन में ट्रेन ने जाेरदार टक्कर मार दी। इससे वाहन के परखच्चे उड़ गए और 13 बच्चों की तत्काल मौत हो गई। दुर्घटना के बाद वहां पर राहगीर और ग्रामीण पहुंच गए। उन्होंने सभी को अस्पताल पहुुंचाया। अफरा-तफरी में कभी 13 बच्चों के मरने तो कभी 17 और 18 बच्चों के मरने की बात शुरू हो गई। पुलिस के अनुसार यह पता किया जा रहा है कि वाहन में कुल कितने बच्चे सवार थे। उनके अभिभावाकों से भी संपर्क किया जा रहा है ताकि मरने वालों का सही आंकड़ा पता चल सके।

वारदात के वक्त मौके पर मौजूद एक बाइक सवार ने कहा कि ट्रेन का ड्राइवर हॉर्न बजा रहा था, इसके बावजूद वैन ड्राइवर ने गाड़ी नहीं रोकी और क्रॉसिंग पार करने की कोशिश की।

 

--Advertisement--