माता-पिता के लिए सुझाव: यदि बच्चे का वजन बहुत कम है तो क्या करें

img

यदि बच्चे के जन्म से पहले माँ को पेट संबंधी समस्या हो रही है या माँ को कोई स्वास्थ्य समस्या है तो बच्चे का वजन कम हो सकता है या यदि बच्चे का जन्म 9 महीने से पहले यानी सातवें या आठवें महीने में हुआ है तो संभावना है कि बच्चा कम वजन का होगा। वजन भी कम हो.

कम वजन होने से बच्चों के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। यदि जन्म के तुरंत बाद बच्चे का वजन कम हो तो मां के स्तन के दूध के जरिए बच्चे को वापस सामान्य यानी सामान्य वजन में लाना चाहिए। इसके लिए डॉक्टर उचित सुझाव देते हैं जिनका माताओं को पालन करना चाहिए। न केवल समय से पहले जन्में बल्कि सामान्य जन्मों में भी कम वजन होने की संभावना अधिक होती है। इसके कारणों को जानकर माताओं को यह देखना चाहिए कि बच्चे के बढ़ते वजन को तुरंत कैसे नियंत्रित किया जा सकता है।

बच्चे का वजन कम होने के कारण!

समय से पहले जन्म- कितनी बार बच्चों का जन्म 9 महीने की उम्र से पहले हो जाता है हमारे देश में 20% नवजात शिशुओं का वजन कम होता है। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से बच्चा कम वजन का पैदा होता है, लेकिन जब बच्चे का वजन कम हो तो उचित पोषण आवश्यक है।

कुपोषण - डॉक्टरों का कहना है कि खराब भोजन गुणवत्ता के कारण भी बच्चों का वजन कम होता है। बच्चों को पर्याप्त कैलोरी, विटामिन और पोषक तत्वों वाला भोजन मिलना चाहिए, अगर उन्हें ये सब नहीं मिलेगा तो कुपोषण से पीड़ित होने की संभावना रहती है।

 

बीमारी- बच्चों में पुरानी बीमारी जैसे खांसी, घरघराहट, थायराइड, मूत्रजनन संबंधी समस्या, हार्मोनल असंतुलन आदि होने पर वजन नहीं बढ़ पाता है।

कई माता-पिता को इस बात का दुख होता है कि उनके बच्चे का वजन अन्य बच्चों की तरह सही नहीं है, वह मोटा नहीं है या उम्र के हिसाब से उसका वजन नहीं है। लेकिन कुछ बच्चे कम वजन होने पर भी बहुत सक्रिय होते हैं, इसलिए भले ही उनका वजन उनकी उम्र के हिसाब से कम न हो, लेकिन उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए उचित उपाय करने चाहिए। अगर हम देखें कि बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए क्या करें..

स्तनपान!
यदि जन्म के तुरंत बाद बच्चे का वजन कम है तो उस बच्चे के लिए वजन बढ़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज मां का दूध है। विशेषज्ञ यह भी सुझाव देते हैं कि यदि बच्चा पूरी मात्रा में मां का दूध पीता है, तो वह बहुत जल्दी ठीक हो जाता है और उसका वजन भी बढ़ जाता है, इसलिए यदि बच्चा लगभग दो से ढाई साल तक भी मां का दूध बचाकर रखता है, तो बच्चा अधिक स्वस्थ रहेगा। जब मां का दूध उस मात्रा में नहीं पिया जा सके तो डॉक्टर से सलाह लें और बच्चे के वजन बढ़ाने के लिए जरूरी लैक्टोज दें।

पोषण आहार:
यदि स्तनपान कराने के 2 से 3 साल बाद भी बच्चे का वजन कम है, तो इसका मतलब है कि बच्चा कुपोषित है। सही मात्रा में पौष्टिक भोजन देना और ऐसे खाद्य पदार्थ खाना बहुत महत्वपूर्ण है जिनमें कैलोरी कम और कैल्शियम अधिक हो। आजकल माताएं पैकेट वाला खाना देती हैं क्योंकि यह बहुत आसान होता है और बच्चे को खाना पसंद होता है, उदाहरण के लिए जेब में आने वाला अनाज का पाउडर खिलाती हैं। इसके बजाय, अगर माताएं घर पर अनाज धोती हैं, सुखाती हैं, भूनती हैं और अपने बच्चों को खिलाती हैं, तो इससे बेहतर कोई पौष्टिक भोजन नहीं है।

इसके अलावा बच्चों को खाना खिलाते समय हर दिन एक तरह का खाना देना चाहिए, जैसे सब्जियां पकाना, चावल के साथ दाल पकाना, अच्छे फलों का जूस पीना, इस तरह करने से बच्चे को सभी जरूरी पोषक तत्व मिलेंगे। , तो बच्चे का वजन बहुत तेजी से बढ़ेगा।

स्वास्थ्य सुधार!
कुछ बच्चों का वजन कम होने का कारण बीमारी भी है। हाल के दिनों में प्रदूषण और हमारी खराब जीवनशैली के कारण भी बच्चे प्रभावित हो रहे हैं और बच्चों को अक्सर सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार आदि हो जाता है। इसके कारण चाहे कितना भी खाना क्यों न खा लें वे खाते हैं, बच्चा ठीक नहीं हो पाता, इसलिए वजन नहीं बढ़ता। इसलिए बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास होना चाहिए यानी कि बच्चों को उचित मात्रा में उचित भोजन देना और साथ ही अनुशासित जीवन जीना सिखाना बहुत जरूरी है। बच्चों को पौष्टिक आहार के साथ उचित मात्रा में पानी पीने की सलाह देनी चाहिए।

लड़कियों का वजन बढ़ाने के लिए सालों से अपनाए जा रहे कुछ घरेलू नुस्खे भी मददगार हो सकते हैं।अगर घर में बड़े-बुजुर्ग हैं तो वे इन घरेलू नुस्खों के बारे में सुनकर बच्चों को देंगे तो उनके विकास में मदद मिलेगी। इन सबके अलावा माता-पिता डॉक्टर की सलाह लेकर बच्चों का वजन बढ़ाने के लिए जरूरी उपाय भी कर सकते हैं। बच्चों का शुरू से ही उम्र के अनुरूप वजन बढ़ाने के लिए डॉक्टर से पोषण और आहार संबंधी सलाह बहुत महत्वपूर्ण है।

Related News