एसीएमओ डाॅ.विवेक श्रीवास्तव का भदोही जिले के लिए तबादला

उपलब्धियों का सेहरा बांध कर जाएंगे एसीएमओ डाॅ.विवेक श्रीवास्तव

महराजगंज ॥ बीते 4 सितम्बर 2017 से जिले में कार्यरत अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. विवेक श्रीवास्तव का 15 जुलाई को भदोही जनपद के लिए तबादला हो गया है। वह यहां से उपलब्धियों का सेहरा बांध कर जाएंगे। क्षय रोग उन्मूलन के मामले में प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त करने पर मुख्यमंत्री के हाथों सम्मानित डाॅ. विवेक विभिन्न क्षेत्रों में भी उल्लेखनीय कार्य किए हैं।

सेवा के दौरान एक ऐसा भी समय आया जब उन्होंने 17 मार्च 2018 को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन दे दिया, नौकरी करते तीन माह तक इंतजार किया। मगर आवेदन स्वीकार नहीं हुआ तो घर चले गए मगर छह माह इंतजार करने के बाद भी जब स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का आवेदन स्वीकार नहीं किया तो पुनः पहली जनवरी 2019 को कार्यभार ग्रहण कर लिया।

इतना ही नहीं श्री श्रीवास्तव ने 15 जुलाई 2019 को त्याग पत्र भी दे दिया, मगर वह भी स्वीकार न होने पर एक माह बाद पुनः रिमाइंडर भी भेजा। उसके बाद भी त्याग पत्र मंजूर नहीं हुआ। मजबूरन सेवा में लगे रहना पड़ा।

एसीएमओ डाॅ. विवेक श्रीवास्तव ने बताया कि जेई /एईएस के नोडल अधिकारी रहते प्रभावी नियंत्रण का काम किया। शत प्रतिशत बच्चों को जापानी इंसेफ्लाइटिस का टीका लगवाया। कोरोना काल में अन्य स्थानों से आए प्रवासियों बच्चों को भी जेई का टीका लगवा कर जानलेवा बीमारी से सुरक्षित किया।

कोरोना काल में सभी चिकित्सा अधिकारियों तथा पैरा मेडिकल स्टाफ को कोरोना से बचाव और उपचार के लिए प्रशिक्षण दिया, पूरे जिले में सेनेटाइजेशन का नोडल अधिकारी का भी दायित्व निभाया।

पीसीपीएनडीटी के नोडल अधिकारी रहते ऐसे निजी चिकित्सकों को चिन्हित किया जो दो से ज्यादा अल्ट्रासोनोग्राफी सेंटर संचालित कर रहे थे।उनके विरुद्ध शासन में अवगत कराते हुए जांच की कार्यवाही सुनिश्चित की गयी। -अमित श्रीवास्तव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *