बड़ी खबर: भारत नहीं कर पा रहा धोखेबाज़ चीन पर भरोसा, दोबारा इस तरह की हिंसा का डर

दोनों देशों के टॉप सुरक्षा सलाहकारों के बीच भी बातचीत हुई है लेकिन 20 महीने से अधिक बीत जाने के बाद भी मामला सुलझता नहीं दिख रहा है।

चीन अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है, आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच 13वें राउंड की बातचीत के बाद भी बॉर्डर पर तनाव बना हुआ है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि भविष्य में पूर्वी लद्दाख के लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर टकराव की संभावना और बढ़ सकती है। यह भी संभव है कि बीजिंग बातचीत को नियमित न रखे।

Army of India and China

वहीँ आपको बता दें कि बॉर्डर पर चीन द्वारा सेना की अधिक तैनाती के बाद से डिसइंगेजमेंट प्लान को लेकर भारत बहुत भरोसा नहीं कर पा रहा है। उलटे चीन ने बॉर्डर पर तनाव को लेकर भारत को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि भारत की मांगें ‘अनुचित’ हैं। द प्रिंट की एक रिपोर्ट बताती है कि भविष्य में गलवान जैसे हिंसक संघर्ष फिर से हो सकते हैं।

इसके साथ ही प्रिंट ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि आने वाली सर्दी भारतीय सैनिकों के लिए मुश्किल भरी हो सकती है। मार्च-अप्रैल 2022 में एक बार फिर बॉर्डर पर हिंसक संघर्ष संभव है। और अबकी चीन अपना नजरिया भी बदलते नजर आ सकता है। वहीँ बता दें कि अप्रैल-मई 2021 से पूर्वी लद्दाख में स्टैंडऑफ की स्थिति बनी हुई है। दोनों देशों ने इसे सुलझाने के लिए तीन स्तर पर काम कर रहे हैं। विदेश मंत्रियों के साथ बातचीत, डिप्लोमैटिक बातचीत और मिलिट्री स्तर पर बातचीत। इस सबके साथ ही दोनों देशों के टॉप सुरक्षा सलाहकारों के बीच भी बातचीत हुई है लेकिन 20 महीने से अधिक बीत जाने के बाद भी मामला सुलझता नहीं दिख रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *