कोरोना वैक्सीन पर सबसे बड़ी खुशखबरी : कोविशील्ड और कोवैक्सीन पर DCGI की मुहर

स्वास्थ्य मंत्रालय की विशेषज्ञ कमेटी ने 1 जनवरी को सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और 2 जनवरी को भारत

नयी दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय की विशेषज्ञ कमेटी ने 1 जनवरी को सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और 2 जनवरी को भारत बायोटेक की वैक्सीन के आपातकाल इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी थी। इन दोनों वैक्सीन को डीसीजीआई से अंतिम अनुमति मिलनी बाकी थी।

Covshield and covaxine

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया जब किसी दवा, ड्रग, वैक्सीन को अंतिम अनुमति देता है, तभी इन दवाओं, वैक्सीन का सार्वजनिक इस्तेमाल हो सकता है। ऐसी इजाजत देने से पहले डीसीजीआई वैक्सीन पर किए गए परीक्षण के आंकड़ों का कड़ाई से अध्ययन करता है और संतुष्ट होने के बाद ही वैक्सीन के सार्वजनिक इस्तेमाल की इजाजत देता है।

दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित

DCGI के निदेशक वीजी सोमानी ने बताया कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति (Restricted use in emergency conditions) में किया जा सकेगा। DCGI के मुताबिक दोनों ही वैक्सीन की दो दो डोज इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी. इन दोनों वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री के तापमान में सुरक्षित रखा जा सकेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *