कोरोना महामारी में भी आर्मी की ताकत बढ़ा रहा चीन, उठाया ये बड़ा कदम

बीजिंग॥ कोविड-19 संकट के बीच चीन ने इस साल अपने रक्षा बजट में 6.6 फीसदी की बढ़ोतरी की है। शुक्रवार को चीन की संसद की सालाना मीटिंग में जारी की गई रिपोर्ट में ये सूचना दी गई है। हालांकि, चीन के सैन्य खर्च में बढ़ोतरी की दर बीते वर्ष के मुकाबले कम है। चीन ने 2019 के रक्षा बजट में 7.5 फीसदी का इजाफा हुआ था।

CHINA

चीन ने फैज के खर्च के लिए 1.268 ट्रिलियन युआन यानी 178.11 अरब डॉलर आवंटित किए हैं। चीन के भारी-भरकम रक्षा बजट से पता चलता है कि वह अपनी सैन्य क्षमता बढ़ाने को लेकर किस तरह आक्रामक है। बीते कुछ समय से अमेरिका के साथ चीन का टकराव बढ़ा है। हिंदुस्तानी सरहद पर भी चीनी सेना की गतिविधियों तेज हुई हैं।

चीन के वुहान में कोविड-19 संक्रमण के फैलने की वजह से चीन की अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचा है। बीते वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले 2020 की तिमाही में चीन की अर्थव्यवस्था का आकार 6.8 प्रतिशत घटा है। शुक्रवार को संसद में पेश हुई प्रीमियर ली केकियांग वर्क रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने पहली बार सालाना आर्थिक वृद्धि दर का लक्ष्य तय नहीं किया है। चीन ने संकट में पड़ी अर्थव्यवस्था को सरकारी सहायता देने का संकल्प लिया है।

हालांकि, कोविड-19 संकट व आर्थिक मोर्चे की चुनौतियों के बावजूद, चीन और अमेरिका की सेनाओं की साउथ चीन सागर और ताइवान के आस-पास चहलकदमी बढ़ी है। कोविड-19 की वजह से दोनों देशों के संबंध और बदतर हुए हैं। चीन के रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में एक रिपोर्ट में चेतावनी दी थी कि कोविड-19 के चलते चीन के प्रति वैमनस्य बढ़ा है और इसकी परिणति यूएसए के साथ सैन्य टकराव के रूप में भी हो सकती है।

पढ़िए-सूख कर कांटा हो गया ये बॉडी बिल्डर, कोरोना वायरस से था ग्रसित

कोविड-19 संकट की उत्पत्ति को लेकर अमेरिका-चीन आमने-सामने हैं। यूएसए प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप कई बार ये बयान दे चुके हैं कि यदि कोविड-19 की महामारी में चीन की संदिग्ध भूमिका सामने आती है तो वह उसके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करेगा। ऑस्ट्रेलिया सहित कई देशों ने संकट की अंतरराष्ट्रीय जांच कराने का समर्थन किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *